मंदसौर, सतना, सागर और बैतूल के बाद अब टीकमगढ़ में नाबालिग लड़की गैंगरेप की शिकार हुई.  उसकी हालत बेहद गंभीर बनी हुई है. लड़की  गांव के दबंगों  की शिकायत करने थाने जा रही थी. आरोपियों ने रास्ते से उसका अपहऱण कर गैंगरेप किया और  मरा समझकर जंगल में फेंककर चले गए.


टीकमगढ़ के सतरई गांव की ये लड़की पड़ौसी से हुए झगड़े की रिपोर्ट लिखाने खरगापुर जा रही थी. पीड़ित लड़की के परिवार का गांव के एक दूसरे परिवार से झगड़ा चल रहा है. हरिराम, लखन, मुकेश, और घनसू नाम के आरोपियों ने लड़की के पूरे परिवार के साथ जमकर मारपीट. ये लड़की किसी तरह अपनी जान बचाकर थाने की ओर भागी. लेकिन चारों आरोपियों ने उसका पीछा किया. रास्ते से अपहरण कर ले गए और गैंगरेप किया. बेहोशी की हालत में लड़की रात भर जंगल में पड़ी रही. सुबह गांव वालों की नज़र जब उस पर पड़ी तो पुलिस को ख़बर दी.


गैंगरेप के बाद उसे मरा समझकर रात में वहीं फेंककर चले गए. सुबह गांव वालों ने लड़की को पड़ा देखा और फौरन 100 नंबर डायल कर पुलिस को ख़बर दी. लड़की को पहले ज़िला अस्पताल लाया गया, लेकिन हालत गंभीर होने के कारण उसे झांसी भेज दिया गया.