पेड़-पौधे न सिर्फ वातावरण को खुशनुमा बनाते हैं बल्कि वास्‍तु शास्‍त्र में भी इनका काफी महत्‍व माना गया है। गरूड़ पुराण और रूप मंडल जैसे शास्‍त्रों में भी पौधों के महत्‍व के बारे में बताया गया है। आपको पौधों का चुनाव करते वक्‍त वास्‍तु के सिद्धांतों का पालन अवश्‍य करना चाहिए। आज हम आपको बता रहे हैं किस पौधे को कहां लगाएं और उनके स्‍वास्‍थ्‍य लाभ क्‍या हैं…

इसको अस्‍वथा के नाम से भी जाना जाता है। विज्ञान के अनुसार, इसकी पत्तियों से भारी मात्रा में ऑक्‍सीजन उत्‍सर्जित होती है। इसलिए कहते हैं कि सुबह के वक्‍त पीपल के पेड़ के आस-पास कुछ देर टहलना चाहिए। हालांकि इसको घर के अंदर नहीं लगाया जाना चाहिए, क्‍योंकि इस पेड़े की जड़े इतनी ज्‍यादा फैलती हैं कि यह आपके घर की नींव को खोखला कर सकती हैं।

नीम के पेड़ औषधीय महत्‍व काफी ज्‍यादा है और इसके सत का प्रयोग कीटनाशक बनाने में भी किया जाता है। नीम के पेड़ का धार्मिक महत्‍व भी बहुत ज्‍यादा है। नवरात्र में नीम के पेड़ में देवीजी का वास मानकर जल चढ़ाया जाता है। इसके अलावा दक्षिण भारत में उगाड़ी नामक त्‍योहार पर नीम की पत्‍ती, आम की पत्‍ती और गुड़ को मिलाकर खाया जाता है। इसलिए इस पेड़ को आप अपने घर के बगीचे में लगा सकते हैं।

आम के पेड़ के अधिकांश हिस्‍से का प्रयोग औषधीय रूप में किया जाता है। इसकी पत्तियों का प्रयोग पूजा-पाठ में किया जाता है। इसकी लकड़ी का प्रयोग हिंदू धर्म में हवन और अंतिम संस्‍कार में भी किया जाता है। आम को फलों राजा माना जाता है। बेहतर होगा कि फलों के इस राजा को आप अपने घर बगीचे में स्‍थान दें।

आम के पेड़ की ही तरह इसका फल भी हमारे घरों में काफी मात्रा में प्रयोग किया जाता है। कटहल से देश के अलग-अलग राज्‍यों में विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजन तैयार किए जाते हैं। इसकी पत्तियों का प्रयोग भी धार्मिक कार्यों में किया जाता है। यह पेड़ आपके बगीचे में हो छाया के साथ शीतलता प्रदान करेगा।

त्‍योहारों और पूजा-पाठ में केले के पत्‍ते का प्रयोग सजावट में किया जाता है। केले के फल को खाने से तुरंत ऊर्जा प्राप्‍त होती है। इतना ही नहीं केले में पॉटेशियम भी भरपूर मात्रा में होता है। इतने गुणों से भरपूर इस पेड़ को आप अपने बगीचे में स्‍थान देकर सभी प्रकार के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

नारियल के पेड़ के प्रत्‍येक हिस्‍से को प्रयोग में लाया जाता है। नारियल से तमाम व्‍यंजन बनाए जाने के साथ ही उसकी पत्तियों से झोपड़ी बनाई जाती है। इसकी उपयोगिता को देखते हुए नारियल के पेड़ को भी आप अपने बगीचे में लगा सकते हैं।