न्यूयॉर्क। बिजनेसमैन से अमेरिके के राष्ट्रपति बने डोनाल्ड ट्रंप के करीब 20 वर्षों तक ड्राईवर के तौर पर साथ रहे नोएल किन्ट्रन। किन्ट्रोन का कहना है कि वे प्राय: हफ्ते में 55 घंटे तक काम करते थे और हर सुबह काम पर सात बजे पहुंच जाते थे। लेकिन, सोमवार के राष्ट्रपति ट्रंप के ड्र्राईवर ने उन्हें कानून नोटिस भेजते हुए उनके ऊपर ओवरटाइम का पैसा ना देने का आरोप लगाया है।

 

 

सोमवार को दायर मुकदमे में किन्ट्रन ने ट्रंप और उनके संगठन पर करीब 3,000 घंटे के ओवरटाइम का पैसा ना देने का आरोप लगाते हुए करीब 1,60,000 डॉलर की मांग की है। मुकदमे के मुताबिक, ट्रंप और उनके व्यवसाय ने किन्ट्रन को वर्षों तक वेकेशन टाइम, सिक डे और खर्चों को लेकर उन्हें ठगा और एक दशक से ज्यादा समय तक उनके वेतन में पर्याप्त इजाफे में अनदेखी की है।

 

59 वर्षीय किन्ट्रन इस समय क्वीन्स में रह रहे हैं और ऐसी ही कई शिकायतें उनके लिए काम करनेवाले कई अन्य कर्मचारियों की तरफ से भी की गई है। जिनमें यह कहा गया है कि उन्होंने ट्रंप के लिए वर्षों तक काम किया लेकिन उन्हें या तक कम पारिश्रमिक दी गई या फिर उनके काम को पर्याप्त सम्मान नहीं दिया गया। ट्रंप के संगठन के दो वकीलों ने मेनहट्टन में सुप्रीम कोर्ट में दायर मुकदमे पर कोई जवाब नहीं दिया।  हालांकि, कंपनी के प्रवक्ता अमान्दा मिल्लर ने ब्लूमबर्ग न्यूज से कहा कि उन्होंने हमेशा खुले दिल से और कानून के मुताबिक भुगतान किया है।