मध्य प्रदेश के इंदौर में छेड़छाड़ से तंग आकर नाबालिग छात्रा ने सुसाइड कर ली. बताया जा रहा है कि छेड़छाड़ के बाद नाबालिग छात्रा तीन दिनों से थाने के चक्कर काट रही थी फिर भी उसके बाद उसकी शिकायत नहीं लिखी गई. सुसाइड से पहले नाबालिग ने सुसाइड नोट भी छोड़ा है.


मामला इंदौर के द्वारकापुरी थाना क्षेत्र के प्रजापत नगर का है, यहां रहने वाली एक नाबालिग युवती को पास ही में रहने वाला युवक मिलन चौहान आए दिन परेशान कर रहा था. इतना ही नहीं युवक ने युवती की फोटो भी फेसबुक पर अपलोड कर दी थी


बताया जा रहा है कि कई बार लड़की और उसके परिजनों के समझाने के बावजूद भी मनचला युवक मानने को तैयार नहीं था. इसकी शिकायत परिजनों ने तीन दिन पहले ही पुलिस को की थी लेकिन आरोप है कि पुलिस ने परिजनों को थाने से भगा दिया.

उसके बाद परिजन लगातार थाने के चक्कर काटते रहे, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई जिससे परेशान नाबालिग युवती ने घर जाकर फांसी के फंदे पर लटक कर अपनी जान दे दी. इसके बाद गुस्साए परिजनों और रहवासियों ने थाने का घेराव किया तब जाकर पुलिस सक्रिय हुई और आरोपी को गिरफ्तारी हुई.


वहीं युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया है.


मामला बढ़ता देख पुलिस ने द्वारिकापुरी थाने के एसआई ओंकार सिंह कुशवाह को निलंबित कर दिया है और मामले की जांच एएसपी मनीष खत्री को सौंप दी है. नाबालिग युवती से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है.


पापा के नाम लिखा भावुक सुसाइड नोट


नाबालिग ने सुसाइड नोट में लिखा कि पापा सॉरी मेरी कोई गलती नहीं थी वो मुझे आए दिन ब्लैकमेल करता है और उसने मेरी फोटो फेसबुक पर भी अपलोड कर दी थी उसकी वजह से मेरी इमेज हर जगह खराब हो गई. उसने मुझसे जबरदस्ती आपके बारे में दो लेटर भी लिखवाए. मुझे स्कूल के टाइम पर परेशान भी करता है और जबरदस्ती बात करने का बोलता है.

नाबालिग ने आगे लिखा कि मैं उससे बहुत परेशान हूं. आपको पता है उसकी मम्मी कितनी खराब है. मैं नहीं चाहती कि मेरी वजह से आपकी इमेज खराब हो मैं स्कूल से आ रही थी तो सब लोग बोल रहे थे कि मेरी गलती है. सॉरी पापा मुझे माफ करना मुझे लगा कि मैं ही नहीं रहूंगी तो बात ही खत्म हो जाएगी.