रायपुर। कान्यकुब्ज सभा की नई कार्यकारिणी की बैठक में समाजहित के अनेक मुद्दों पर चर्चा की गई। चर्चा में न्यायालय संबंधी विवाद के लिए विधिक सहायता प्रदान करने तथा कमजोर वर्ग को कानूनी सहायता देने का फैसला किया गया। इसके लिए समाज के प्रतिष्ठित वकील अपनी सेवाएं देंगे। इसके अलावा चिकित्सा सहायता के लिए अलग कोष का निर्माण कर आर्थिक सहायता देने तथा पारिवारिक विवाद के निराकरण के लिए परिवार परामर्श केन्द्र का निर्माण करने का निर्णय लिया गया।


बुजुर्गों की सहायता घर पहुंच कर करेंगे


बैठक में समय-समय पर स्वास्थ्य शिविर, योग शिविर का आयोजन कर जागरुकता लाने तथा बुजुर्गों की सहायता के लिए टीम बनाकर घर पहुंच सहायता करने की भी योजना बनाई गई है।


मृत्युभोज सादगी पूर्ण हो


चर्चा में यह भी फैसला किया गया कि मृत्युभोज का आयोजन केवल पारिवारिक सदस्यों के लिए किया जाएगा। साथ ही सादगी पूर्ण ढंग से शोक सभा एवं शांति मिलन कार्यक्रम होगा।


नई राजधानी में भूमि मांगेंगे


समाज के लिए नई राजधानी में जमीन की मांग सरकार से की जाएगी ताकि शिक्षा की दिशा में विस्तार किया जा सके।


ग्रंथालय बनाएंगे


प्रदेश के साहित्यकारों से उनके स्वरचित तथा अन्य साहित्य का संकलन कर ग्रंथालय का निर्माण किया जाएगा।


बैठक में कान्यकुब्ज सभा एवं शिक्षा मंडल के अध्यक्ष अरूण शुक्ला, सचिव संतोष दुबे, पूर्व अध्यक्ष वीरेन्द्र पांडेय, पूर्व सचिव शिवशंकर शुक्ल, राजेन्द्र शुक्ला, शैलेन्द्र तिवारी, संजय अवस्थी, राघवेन्द्र मिश्रा, वर्तमान कार्यकारिणी में विपिन बिहारी त्रिवेदी, ममता शुक्ला, राजेश अग्निहोत्री, प्रदीप पांडेय, आकांक्षा दुबे, निशा अवस्थी, अर्चना मिश्रा, नीता अवस्थी, डॉ.विद्याकांत त्रिवेदी, अमित बाजपेयी, समीर मिश्रा, जवाहर बाजपेयी, विजय शुक्ला, गौरव शुक्ला, देवेन्द्र पाठक, सौरभ शुक्ला, अनुराग पांडेय आदि मौजूद थे।