हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भारतीयों में तेजी से बढ़ रही है। यह समस्या यंग जेनरेशन को भी तेजी से जकड़ रही है। जानकार मानते हैं कि बदलती लाइफस्टाइल इसके पीछे की एक बड़ी वजह है। बावजूद इसके हाई बीपी को लेकर लोगों में जागरुकता कम ही देखने को मिलती है। जब तक बीपी इतना न बढ़ जाए कि शरीर पर इसका प्रभाव दिखने लगे और फिर डॉक्टर के पास जाने की नौबत आ जाए, तब तक लोग यह सोचते भी नहीं कि वह भी बीपी के मरीज हो सकते हैं। ऐसी स्थिति में इससे जुड़े कुछ मिथक और उनसे जुड़ी सच्चाई को जानना बहुत जरूरी हो जाता है।

हकीकत: आप हाई बीपी को महसूस नहीं कर सकते, जबकि यह धीरे-धीरे आपके शरीर के अंगों को नुकसान पहुंचा रहा होता है। जब बीपी बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तब ही यह समस्या पूरी तरह से सामने आती है।

हकीकत: हाई बीपी की समस्या सिर्फ बुजुर्गों तक ही सीमित नहीं रह गई है। यंग जेनरेशन के तेजी से बदलते लाइफस्टाइल का हिस्सा बन गया है। ऐसे में उनके पास खान-पान से लेकर हेल्थ पर ध्यान देने का समय भी कम ही मिल पाता है जो बीपी को प्रभावित करता है।

हकीकत: ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए डॉक्टर दवाइयां देते हैं। कई बार देखा जाता है कि बीपी सामान्य होते ही लोग दवाई लेना छोड़ देते हैं। बीपी की समस्या होने पर आपको पूरी जिंदगी इस पर नजर रखनी पड़ती है, ऐसे में खुद से दवाई छोड़ने का निर्णय न लें।

हकीकत: अगर जांच के दौरान आपका बीपी सामान्य से थोड़ा अधिक भी आया है तो आपको अलर्ट होने की जरूरत है, क्योंकि हाई बीपी आपकी किडनी, दिल, दिमाग और शरीर के कई अंगों को नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में इसे इग्नोर न करें।

हकीकत: बीपी में ज्यादा उतार-चढ़ाव खतरे की घंटी है। यह किसी भी तरह से नॉर्मल नहीं है। अगर आप इसे इग्नोर करते हैं तो आपको शायद इस बात का एहसास भी नहीं है कि आप खुद के शरीर को कितने बड़े खतरे में डाल रहे हैं।

हकीकत: नमक और बीपी का काफी गहरा नाता है, लेकिन यह सोचना कि नमक कम कर आप हाई ब्लड प्रेशर से निजात पा सकते हैं यह बिल्कुल गलत है। नमक कम करने से बीपी को नीचे लाने में सहायता जरूर मिलती है पर इससे आप पूरी तरह से ब्लड प्रेशर कंट्रोल नहीं कर सकते।

हकीकत: हाई बीपी के लिए आपका लाइफस्टाइल काफी हद तक जिम्मेदार है। हालांकि, यह मानना की हेल्दी लाइफस्टाइल जीने पर आपको बीपी की समस्या नहीं हो सकती गलत है। बीपी के लिए कई बार आपके जीन भी जिम्मेदार होते हैं। ऐसे में एहतियात बरतना जरूरी है।