इंदौर। मंदसौर दुष्कर्म कांड की पीड़ित बच्ची की हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। वह खतरे से बाहर है। लेकिन अभी कई दिनों तक उसे उपचार की जरूरत होगी। सतत निगरानी रखकर यह देखना होगा कि उसकी नसों में जो प्राब्लम है उनकी सर्जरी करने के बाद कितनी जल्दी घाव भर रहे हैं। बच्ची के मोशन का रास्ता ऊपर से बनाया गया है, जिससे उसका पेट साफ रहेगा व जो जख्म बना हुआ है वह भी भरेगा। उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि वह खतरे से बाहर है।


यह कहना है मुंबई के बाम्बे अस्पताल से आए पीडिएट्रिक चिकित्सक रवि रामाद्वार का। उन्होंने रविवार दोपहर को एमवाय पहुंचकर वार्ड 15 में बने आईसीयू में जाकर बच्ची का चेकअप किया। उनके अलावा दो मनोचिकित्सक स्वाति प्रसाद व भास्कर प्रसाद ने भी बच्ची व माता पिता की काउंसलिंग की है।


रविवार को चिकित्सक के पहुंचने से पहले संभागायुक्त राघवेंद्र सिंह, कलेक्टर निशांत वरवड़े, मेडिकल कॉलेज डीन डॉक्टर शरद थोरा, अधीक्षक वीएस पाल ने बैठक ली। मुंबई से आए डॉक्टर रवि रामाद्वार के पहुंचने पर उन्हें 15 नंबर वार्ड में ले जाया गया। वहां पर उन्होंने बच्ची का चेकअप करने के साथ ही चिकित्सकों से उपचार व स्थिति की जानकारी ली। उनके अनुसार बच्ची की हालत में पहले से सुधार हुआ है।


उसने रविवार को बिस्कुट खाया व पानी भी पिया। वह अब बात भी करने लगी है। जल्द ही आईसीयू से बाहर वार्ड में शिफ्ट किया जाएगा। इलाज के दौरान उसके स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना जरूरी है तभी यह पता चलेगा उसकी रिकवरी कैसे व किस तेजी से हो रही है। एमवाय अस्पताल में इलाज बेहतर किया जा रहा है। इसलिए उसे कहीं बाहर ले जाने की आवश्यकता नहीं है। यहां सेटअप व डॉक्टर्स की पूरी व्यवस्था है।


खिलखिलाई व खाने में क्या पसंद यह बताया


बच्ची की मानसिक स्थिति का पता लगाने मनोचिकित्सक स्वाति प्रसाद ने आधा घंटा बच्ची से काउंसलिंग की। इस दौरान बच्ची ने धीमे स्वर में ही सही पर उन्हें अपनी पसंद की चीजों, खिलौनों व खाने में क्या पसंद है इसकी जानकारी दी। माता-पिता व परिवार को वह पहचान रही है। वहीं पसंद के गाने सुनने पर हल्की सी खिलखिलाई भी।


मनोचिकित्सक ने बताया बच्ची सभी को पहचान रही है। वह मानसिक रूप में संतुलन में है यह उसके स्‍वस्‍थ होने के लिए जरूरी है। उसने खाने में क्या पसंद है, कौन सा गाना पसंद है यह तक बताया। मनोचिकित्सक भास्कर प्रसाद ने बच्ची के पैरेंट्स की काउंसलिंग कर उनके मानसिक तनाव को जानने की कोशिश की।


माता-पिता ने स्कूल की बताई लापरवाही


दोपहर को संपूर्ण समाज पार्टी के सदस्य पीड़ित बच्ची के पिता से मिले। अधीक्षक कक्ष में हुई मुलाकात में उन्होंने आरोपियों को सख्त से सख्त सजा दिए जाने की बात कहीं। उन्होंने स्कूल प्रबंधन को भी इसके लिए दोषी बताया। पिता के अनुसार स्कूल से किसी अनजान के साथ कैसे बच्ची को भेजा जा सकता है। माता-पिता से मिलने संपूर्ण समाज पार्टी की जिला अध्यक्ष महिला मंच सीमा सिंग, जिला अध्यक्ष योगिता यादव, अर्पित सिद्व व अन्य सदस्य मौजूद रहे।


बच्ची के माता पिता से मिलकर जाना हाल


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहनवाज हुसैन भी रविवार सुबह एमवाय अस्पताल पहुंचे। उन्होंने बताया बच्ची के स्वास्थ्य को देखते हुए किसी को भी उससे मिलने की इजाजत नहीं है। इसलिए उन्होंने भी सिर्फ माता-पिता से ही मुलाकात की है। राशि जमा होने की जानकारी भी ली है। माता-पिता ने राशि के बजाय सजा की बात भी कही है। उन्होंने कहा आरोपी को फास्ट ट्रेक कोर्ट से फांसी की सजा होगी। दुख की बात यह है कि समाज में इस तरह के भेड़िये रहते हैं। यहां के समाज ने तो ऐसे लोगों को दफनाने से भी मना किया है। बच्ची जल्द स्वस्थ होगी।


स्वास्थ्य पर 24 घंटे निगरानी


बच्ची की देखरेख के लिए बनाई गई चार डॉक्टर्स की टीम 24 घंटे उसकी निगरानी कर रही है। हर दो घंटे में उसका चेकअप तक किया जा रहा है। इसके साथ ही खाने में लिक्वीड व बिस्कुट भी दिया गया। एमवाय अस्पताल के वार्ड 15 में उसकी देखरेख के लिए लगा स्टॉफ हर समय उसकी स्वास्थ्य की निगरानी कर रिपोर्ट सौंप रहा है।