'इंडियन आइडल सीजन 10' जल्द ही शुरू होने जा रहा है। ऐसे में उन विनर्स की यादें ताजा होना लाजिमी है जो इस शो को पहले ही जीत चुके हैं। ऐसा ही एक नाम है बीकानेर राजस्थान के रहने वाले सिंगर संदीप आचार्य का, जिन्होंने 'इंडियन आइडल सीजन 2' में विनर का खिताब अपने नाम किया था। लेकिन उनकी जिंदगी बहुत छोटी थी और महज 29 साल की उम्र में ही वो इस दुनिया को अलविदा कह गए।

22 साल की उम्र में ही बन गए थे विनर... 

संदीप ने अपनी सुरीली आवाज से करियर में कई उपलब्धियां हासिल कीं थी। 22 अप्रैल, 2006 को महज 22 साल की उम्र में वो इंडियन आइडल सीजन 2 के विनर बन गए थे। इसके अलावा वो साल 2004 में गोल्डन वॉयस ऑफ राजस्थान के रनर अप भी रहे। उन्होंने अमेरिका के न्यू जर्सी में बेस्ट न्यू बॉलीवुड टेलेंट का अवॉर्ड अपने नाम किया था।

बीकानेर में हुआ था जन्म...

संदीप आचार्य का जन्म 4 फरवरी, 1984 को राजस्थान के बीकानेर में हुआ था। संदीप शुरू से ही पढ़ाई में तेज थे और साइंस से ग्रैजुएशन किया था। वो चार भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। संदीप के सिंगिंग टैलेंट के बारे में उनके परिवार को नहीं पता था। पहली बार एक स्कूल कॉम्पिटीशन में हिस्सा लेने के बाद उनकी प्रतिभा सबके सामने आई।


स्कूल प्रतियोगिता में रहे थे रनर-अप

बीकानेर के एक स्कूल में हुई सिंगिंग प्रतियोगिता में संदीप रनर-अप रहे। यहीं से उन्हें पहचान मिली और इसके बाद उन्होंने शहर में कई परफॉर्मेंस दी। देखते ही देखते वो शहर के स्टार बन गए थे। तभी 2006 में उन्हें इंडियन आइडल में हिस्सा लेने का मौका मिला और वो इसे जीतने में कामयाब रहे थे।

मौत से एक साल पहले ही हुई थी शादी...

चार भाई-बहनों में सबसे छोटे संदीप की 2012 में ही शादी हुई थी। उनकी पत्नी का नाम नम्रता आचार्य है। निधन से करीब 20 दिन पहले ही वो बेटी के पिता भी बने थे। उनकी मौत ने जैसे सारे बॉलीवुड को सकते में डाल दिया था।


ऐसे हुई थी मौत...

15 दिसंबर, 2013 को बीमारी के कारण उनका निधन हो गया था। बताया जाता है कि वह पीलिया से पीड़ित थे। गुड़गांव के मेंदाता हॉस्पिटल में चल रहे इलाज के दौरान उनकी मौत हुई थी। अगर आज वो जिंदा होते तो 34 साल के होते।