अगर आपको लगता है कि सब्जियों का जूस पीने से आप हमेशा फिट और हेल्दी रहेंगे तो ऐसा जरूरी नहीं है। हकीकत तो यह है कि बहुत सारी सब्जियों का जूस जिसे कई बीमारियों के इलाज के तौर पर बेहतरीन माना जाता है वह न सिर्फ हमारे शरीर के लिए हानिकारक है बल्कि जानलेवा भी साबित हो सकते हैं। इन दिनों एक ट्रेंड जो लोगों में सबसे ज्यादा देखने को मिल रहा है वह है सुबह के वक्त पार्क के बाहर सड़क किनारे बिकने वाला लौकी का जूस पीना। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस तरह का लौकी का जूस सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। 

चेक करें लौकी जहरीली तो नहीं 

लौकी का जूस बनाने से पहले लौकी के कड़वेपन का टेस्ट करना जरूरी है ताकि यह पता चल सके कि कहीं लौकी जहरीली तो नहीं है। यह टेस्ट करने के लिए लौकी को स्लाइस में काटें और अगर लौकी का स्वाद कड़वा है तो इसका जूस बिलकुल न बनाएं। ऐसा इसलिए क्योंकि सब्जी का कड़वापन उसमें मौजूद कम्पाउंड कुकुरबीटासिन की वजह से होता है जो एक साइटोटॉक्सिक कम्पाउंड है। 

दूसरी सब्जियां भी हो सकती हैं जहरीली 

सिर्फ लौकी में ही नहीं बल्कि यह साइटोटॉक्सिक कम्पाउंड खीरा, बैंगन, कद्दू या कोहड़ा और खरबूजा जैसे फल और सब्जियों में भी पाया जाता है। लिहाजा अगर इन सब्जियों का कड़वापन टेस्ट किए बिना इसका जूस बनाकर पीया जाए तो यह आपके लिए जहरीला साबित हो सकता है। 


जहरीला जूस पीने से तुरंत होता है रिऐक्शन 

लौकी का जहरीला जूस पीने से आंत में तुरंत रिऐक्शन होता है जिससे वॉमिटिंग शुरू हो जाती है, उल्टी में खून आने लगता है, पेट में दर्द होने लगता है और ब्लड प्रेशर तुरंत गिरने लगता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि ये सारे लक्षण जहरीला जूस पीने के महज 30 मिनट के अंदर शुरू हो जाते हैं। कई बार लोग इन लक्षणों को पेट से जुड़ी दूसरी बीमारियों से जोड़कर देखते हैं जिससे सही समय पर रोग की पहचान नहीं हो पाती। 

गाजर का जूस भी खतरनाक 

सिर्फ लौकी के जूस से ही शरीर पर नकारात्मक असर नहीं होता बल्कि गाजर का जूस भी शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकता है अगर इसे ज्यादा मात्रा में पीया जाए। वैसे तो पोषण से भरपूर गाजर के जूस को आंखों के लिए फायदेमंद माना जाता है लेकिन अगर इसका जरूरत से ज्यादा मात्रा में सेवन किया जाए तो ब्लड शुगर का लेवल अचानक बहुत बढ़ जाता है और स्किन का कलर ऑरेंज हो जाता है। इतना ही नहीं इससे फूड पॉइजनिंग तक हो सकती है। 


ब्रॉकली का जूस भी न पिएं 

यूरोपियन जर्नल ऑफ गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी ऐंड हेपाटोलॉजी के मुताबिक ब्रॉकली खाना तो सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन इसका जूस बिलकुल नहीं पीना चाहिए क्योंकि इससे लिवर टॉक्सिटी यानी विषाक्तता हो सकती है।