नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तरफ से 13 जून को दी जाने वाली इफ्तार पार्टी में पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को आमंत्रित नहीं किए जाने की खबर का खंडन करते हुए सोमवार को कांग्रसे ने कहा कि मुखर्जी को आमंत्रण भेजा गया है जिसे उन्होंने स्वीकार भी कर लिया है।  कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट के जरिए कहा कि कई मीडिया हाउस ने कांग्रसे अध्यक्ष की ओर से मुखर्जी को इफ्तार पार्टी में आमंत्रित करने को लेकर सवाल उठाया है।


उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष ने प्रणव मुखर्जी को आमंत्रित किया है और उन्होंने शालीनतापूर्वक इसे स्वीकार किया है। उम्मीद है कि इसस बेबुनियाद कयासबाजी बंद हो जाएगी। उन्होंने कहा कि मैं यह बता दूं कि प्रणव दादा ने पिछली बार कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा दी गई इफ्तार पार्टी में शिरकत कर एक प्रतिमान स्थापित की थी। कांग्रेस द्वारा इफ्तार पार्टी का आयोजन ऐसे समय में किया जा रहा है जब विपक्षी दल 2019 के आम चुनाव में भाजपा के खिलाफ मोचेर्बंदी की कोशिश में हैं। जाहिर है कि पार्टी में कई दलों के नेता शिरकत कर सकते हैं जहां विपक्षी एकजुटता की जमीन तैयार हो सकती है। 

कांग्रेस की इफ्तार पार्टी में मुलायम सिंह यादव, शरद यादव, शरद पवार, सीताराम येचुरी, तेजस्वी यादव व अन्य के शामिल होने की संभावना है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगू देशम पार्टी के  प्रमुख एन. चंद्रबाबू नायडू को भी आमंत्रित किया गया है। कार्यक्रम ताज पैलेस होटल में होगा। पिछली कांग्रेस की तत्काली अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 2015 में इफ्तार पार्टी दी थी।


कांग्रेस की ओर से इफ्तार पार्टी का आयोजन तब किया जा रहा है, जब कुछ ही दिन पहले राष्ट्रपति भवन में इस बार इफ्तार कार्यक्रम नहीं किए जाने का फैसला लिया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि करदाताओं के पैसे से सार्वजनिक भवन में कोई धार्मिक कार्यक्रम नहीं होना चाहिए।