भारतीय रिजर्व बैंक ने जारी किए आंकड़े

मुंबई । देश की अर्थव्यवस्था को कैशलेस बनाने के रास्ते पर चले मोदी सरकार को झटका लगा है। देश में इस समय जनता के हाथ में मुद्रा का स्तर 18.5 लाख करोड़ रुपए से ऊपर पहुंच गया है जो अब तक अधिकतम स्तर है। और यह नोटबंदी के दौर की तुलना में दोगुने से अधिक है। नोटबंदी के बाद जनता के हाथ में मुद्रा सिमट कर करीब 7.8 लाख करोड़ रुपए रह गई थी। 

भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, इस समय चलन में कुल मु्द्रा 19.3 लाख करोड़ रुपए से अधिक है जबकि नोटबंदी के बाद यह आंकड़ा लगभग 8.9 लाख करोड़ रुपए था। मालूम हो कि चलन में मौजूद कुल मुद्रा में से बैंकों के पास पड़ी नकदी को घटा देने पर पता चलता है कि चलन में कितनी मुद्रा लोगों के हाथ में पड़ी है। आंकड़ों के मुताबिक, 'जनता के पास मुद्रा' और 'चलन में मुद्रा' दोनों नोटबंदी के फैसले से पहले के स्तर से अधिक हैं। सरकार के नोटबंदी के फैसले से चलन में मौजूद कुल मुद्रा में मूल्य के हिसाब से 86 प्रतिशत मुद्रा अमान्य हो गई थी। 

आर.बी.आई. द्वारा जारी हालिया आंकड़ों के मुताबिक, कुल 15.44 लाख करोड़ रुपए की अमान्य मुद्रा में से 30 जून 2017 तक लोगों ने 15.28 लाख करोड़ रुपये की मुद्रा बैंकों में जमा करवाई। जबकि ताजा आंकड़ों के मुताबिक, मई 2018 तक लोगों के पास 18.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक की मुद्रा थी, जो एक वर्ष पहले की तुलना में 31 प्रतिशत अधिक है। यह 9 दिसंबर 2016 के आंकड़े 7.8 लाख करोड़ रुपए के दोगुने से अधिक है। नोटबंदी से पहले, लोगों के पास करीब 17 लाख करोड़ रुपए की मुद्रा थी।

केंद्रीय बैंक द्वारा जारी 'रिजर्व मुद्रा' आंकड़ों के मुताबिक, एक जून 2018 को 19.3 लाख करोड़ रुपए से अधिक की मुद्रा चलन में थी। यह एक वर्ष के पहले की तुलना में 30 प्रतिशत अधिक है और 6 जनवरी 2017 के 8.9 लाख करोड़ रुपए की तुलना में 2 गुने से अधिक है। 

उल्लेखनीय है कि भारतीय रिजर्व बैंक चलन में मुद्रा के आंकड़े साप्ताहिक आधार पर और जनता के पास मौजूद मुद्रा के आंकड़े 15 दिन में प्रकाशित करता है। आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि मई 2014 में मोदी सरकार के आने से पहले लोगों के पास लगभग 13 लाख करोड़ रुपए की मुद्रा थी। एक वर्ष में यह बढ़कर 14.5 लाख करोड़ से अधिक और मई 2016 में यह 16.7 लाख करोड़ हो गई। अक्तूबर 2016 में यह 17 लाख करोड़ से अधिक हो गई।