विदेशों में कमजोर रुख को नजरअंदाज करते हुए दिल्ली सर्राफा बाजार में शुक्रवार को आभूषण विक्रेताओं की सतत लिवाली से सोने की कीमत 80 रुपये की तेजी के साथ 31,950 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। हालांकि औद्योगिक इकाइयों के छिटपुट सौदों के कारण चांदी की कीमत 41,000 रुपये प्रति किलो पर स्थिर बनी रही।


 राष्ट्रीय राजधानी में 99.9 प्रतिशत और 99.5 प्रतिशत शुद्धता वाला सोना 80 रुपये बढ़कर क्रमश : 31,950 रुपये और 31,800 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गये। पिछले दो दिनों में सोने में 270 रुपये की तेजी आई थी। हालांकि, आठ ग्राम वाली गिन्नी छिटपुट सौदों के बीच 24,800 रुपये प्रति इकाई पर अपरिवर्तित बनी रही। औद्योगिक इकाइयों की ओर से मांग सुस्त रहने से चांदी तैयार की कीमत 41,000 रुपये प्रति किलोग्राम  पर स्थिर बनी रही। जबकि चांदी साप्ताहिक डिलीवरी की कीमत 285 रुपये उछलकर 40,370 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई। हालांकि, चांदी सिक्का लिवाल 76 हजार रुपये और सिक्का बिकवाल 77 हजार रुपये प्रति सैकड़ा पर पूर्ववत बना रहा। 


तो और महंगा होता सोना

बाजार विशेषज्ञों ने कहा कि घरेलू हाजिर बाजार में स्थानीय आभूषण विक्रेताओं की लिवाली में आई तेजी के कारण सोने की कीमत में तेजी रही। हालांकि, आगामी सप्ताह में अमेरिकी फेडरल रिजर्व की नीतिगत बैठक तथा अमेरिका और उत्तरी कोरिया के बीच सम्मेलन जैसे प्रमुख कार्यक्रमों से पहले निवेशक सतर्क बने रहे और विदेशों में कमजोरी का रुख दिखाई दिया जिसने घरेूल बाजार में तेजी पर कुछ अंकुश लगाया। वैश्विक स्तर पर सिंगापुर में सोना 0.12 प्रतिशत टूटकर 1,295.30 डॉलर प्रति औंस रह गया। चांदी भी 0.21 प्रतिशत टूटकर 16.64 डॉलर प्रति औंस रही।