नई दिल्ली दुनिया के महानतम क्रिकेटरों में शुमार सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर का भारत की अंडर-19 टीम में चयन हो गया है। श्रीलंका में दो चार दिवसीय मैचों के लिए चुनी गई अंडर-19 भारतीय टीम में अर्जुन का भी नाम है, हालांकि उन्हें वनडे टीम में मौका नहीं मिला। अर्जुन के टीम में चुने जाने के बाद से ही वो खबरों में बने हुए हैं। वैसे भले ही अर्जुन अंडर-19 टीम में चुने गए हों, लेकिन उन्हें कभी भी अंडर-19 वर्ल्ड कप खेलने का मौका नहीं मिलेगा।

चौंकिए मत हम आपको बताते हैं कि ऐसा क्यों है। दरअसल अर्जुन की उम्र 18 साल की है और वो दो साल बाद 20 साल के हो जाएंगे, जबकि अगला अंडर-19 वर्ल्ड कप 2020 में दक्षिण अफ्रीका में खेला जाना है। ऐसे में ये तो तय है कि अर्जुन को कभी भी अंडर-19 वर्ल्ड कप खेलने का मौका नहीं मिल पाएगा। वैसे उनके पिता सचिन तेंदुलकर ने भी भारत की ओर से कभी अंडर-19 वर्ल्ड कप नहीं खेला।

अर्जुन इसलिए भी खबरों में बने हुए हैं कि कुछ फैन्स का ऐसा मानना है कि उन्हें सचिन के नाम की वजह से टीम में जगह मिलेगी। जब चयन समिति के करीबी सूत्र से पूछा गया कि अर्जुन विकेट चटकाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में 43वें नंबर पर होने के बावजूद कैसे चुने जा सके तो उन्होंने कहा, 'अगर आप लिस्ट को देखो तो अर्जुन इकलौते तेज गेंदबाज है, जिन्होंने 15 से ज्यादा विकेट चटकाए हैं। वहीं उनसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले ज्यादातर गेंदबाज स्पिनर हैं जिनमें से अजय देवगौड़ (33 विकेट) ही ऐसे गेंदबाज हैं जो असल में ऑलराउंडर हैं। वो भी मध्यम गति का गेंदबाज है जबकि अर्जुन तेज गेंदबाज हैं।'