सिवनी के बहरई वन परिक्षेत्र के तहत वन विभाग की हिरासत में एक ग्रामीण की मौत होने का मामला सामने आया है, मृतक के परिजनों ने डिप्टी रेंजर सहित तीन चौकीदारों पर हत्या करने का आरोप लगाया है. खुद को फंसता देख आरोपी डिप्टी रेंजर ने बारघाट पुलिस के सामने आत्म समर्पण कर दिया.


बारघाट पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि गांगपुर निवासी रूपचंद सोनवाने जंगल में लकड़ी बीनने गया था. इस दौरान बहरई वन परिक्षेत्र के डिप्टी रेंजर ने उसे पकड़ लिया और रेंज कार्यालय लेकर आ गए. जानकारी के अनुसार डिप्टी रेंजर ने तीन चौकीदारों के साथ मिलकर ग्रामीण की जमकर पिटाई की. मृत के परिजनों को जब इसका पता चला तो रूपचंद की पत्नी उसे छुड़वाने के लिए रेंज कार्यालय गई, लेकिन उसे चौकीदार फूलसिंह ने अंदर नहीं जाने दिया और शाम तक रूपचंद को छोड़ने की बात कही.


मामले में आरोपी डिप्टी रेंजर और चौकीदारों की पिटाई से रूपचंद की मौत हो गई, जिसके बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए जंगल में ले जाकर जला दिया. सुबह मृतक की पत्नी जब फिर रेंज कार्यालय पहुंची तो रेंजर ने रूपचंद को रात को ही छोड़ देने की बात कही. मामले का पता जब ग्रामीणों को लगी तो ग्रामीण रेंज कार्यालय पहुंचकर हंगामा किया. खुद को मामले में फंसता देख आरोपी रेंजर बारघाट थाने पहुंचकर आत्म समर्पण कर दिया और वारदात कबूल कर लिया. पुलिस ने बताया की मामले में अन्य चौकीदार फरार है और जल्द ही पुलिस उन्हें गिरफ्तार करेगी.