भोपाल । कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने परीक्षा के दौरान गड़बड़ी रोकने की दिशा में नए नियम जारी किए गए हैं। इसके तहत न सिर्फ गड़बड़ी करने पर, बल्कि इसकी कोशिश पर भी कड़ी कार्रवाई होगी। इसकी आशंका कम से कम रहे, इसके लिए परीक्षा सेंटर को लेकर कई बंदिशें भी जारी की गई हैं। एसएससी के ये निर्देश 1जून से प्रभावी हो गए हैं। नई गाइडलाइंस के तहत ऐसा करने वालों के खिलाफ क्रिमिनल केस तो होगा ही, साथ ही उनके एग्जाम देने पर बैन लगाने का भी प्रावधान किया गया है। अभी एसएससी के पास ऐसा अधिकार नहीं था, जिससे कि वह गड़बड़ी करने वाले स्टूडेंट पर बंदिश लगा सके। मालूम हो कि केंद्रीय सेवाओं में ग्रेड सी और ग्रेड डी के लिए परीक्षा एसएससी आयोजित करता है, जिसमें हर साल 3 करोड़ से ज्यादा स्टूडेंट भाग लेते हैं। एसएससी द्वारा जारी नए नियम के अनुसार, स्टूडेंट अगर एग्जाम से जुड़ा कोई भी कागज ले जाते हुए पकड़े जाते हैं तो 2 साल के लिए किसी भी गवर्नमेंट एग्जाम में नहीं बैठ पाएंगे। एग्जाम सेंटर पर अगर झगड़ा किया या परीक्षक की बात अनसुनी की तो 3 साल तक एग्जाम देने पर बैन लग जाएगा। 

अगर निर्धारित सीमा से ज्यादा दूर तक मोबाइल फोन या कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान ले जाते पकड़े गए तो 7 साल तक प्रतिबंध लगेगा। चाहे वह सिस्टम बंद ही क्यों न हो। कोई रिकॉर्डिंग नहीं की जा सकती है। अगर डेटा लीक करने की कोशिश हुई या कहीं से हैक करने की कोशिश हुई तो 7 साल तक परीक्षा देने पर प्रतिबंध लगेगा। इसी तरह परीक्षक पर भी कानून का पालन कराने की जिम्मेदारी होगी और इसका उल्लंघन करने पर सर्विस रूल के हिसाब से सस्पेंड तक हो सकते हैं। गौरतलब है कि एसएससी की परीक्षाओं में गड़बड़ी को लेकर देशव्यापी आंदोलन हुआ था, जिसके बाद केंद्र सरकार ने भी इसमें हस्तक्षेप करने का फैसला किया था। एसएससी ने यह बदलाव कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर की है। इस कमेटी का गठन तब किया गया था, जब छात्रों का आंदोलन चल रहा था। सिस्टम को किस तरह सुधारा जाए, कमेटी ने इस बारे में रिपोर्ट दी है। सूत्रों के अनुसार आने वाले दिनों में कई और बदलाव की तैयारी है।