योग भारत की ऐसी प्राचीन पद्धति है, जोकि तन और मन दोनों को स्वस्थ रखती है। आजकल के मॉर्डन लाइफस्टाइल में लोग फिट और स्वस्थ रहने के लिए ज्यादातर जिम की तरह आकर्षित होते हैं लेकिन फिट और स्वस्थ रहने के लिए योग से अच्छा कुछ और हो ही नहीं सकता। कई बार आप छोटी-मोटी प्रॉब्लम से परेशान होते हैं लेकिन इन समस्याओं को आप योग के जरिए दूर कर सकते हैं। वैसे तो बीमारियों से बचने के लिए बहुत से आसन है लेकिन आज हम आपको एक ऐसे आसन के बारे में बताने जा रहे हैं, जोकि ब्लड प्रैशर, थायराइड, तनाव और स्लिप डिस्क जैसी प्रॉब्लम को दूर करता है। तो चलिए जानते हैं इसे करने का सही तरीका और इसके फायदे।

सेतुबंधासन करने की विधि

सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और अपने दोनों पैरों को कूल्हे की तरफ खींचें। अब दोनों पैरों में थोड़ा अंतर रखकर हाथों-पैरों के टखनों को पकड़ लीजिए। इस बात का ख्याल रखें कि आपके पैर एक-दूसरे के समानांतर न हों। अब अपनी पीठ, कूल्हे और जांघों के साथ ऊपर की ओर उठने की कोशिश करें। कमर को ज्यादा से ज्यादा ऊपर उठा लें और सिर व कंधे जमीन पर ही रहने दें। ध्यान रखें कि आपकी ठुड्डी आपकी छाती से टच करती हो। इसके बाद सामान्य सांस ले और कुछ देर रूके। सामान्य स्थिति में आने से पहले अपनी पीठ को जमीन पर लाएं, फिर कमर का ऊपरी हिस्सा और आखिर में कमर जमीन पर ले आएं।

सेतुबंधासन करने के फायदे

1. मजबूत मांसपेशियां

नियमित रूप से सेतुबंधासन करने से पीठ की मांसपेशियां मजबूत और लचीली होती हैं। इस आसन से मांसपेशियों में खिंचाव पड़ता है, जिससे मजबूत मांसपेशियों के साथ आपका तनाव भी दूर होता है। इसके अलावा यह आसन रीढ़ की हड्डी, सीने और गर्दन में खिंचाव पैदा करके उन्हें टोन करने का काम करता है।

 


2. डिप्रेशन दूर करने में मददगार

इस आसन को प्रतिदिन और सही तरीके से करने पर डिप्रैशन, चिंता, स्ट्रैस जैसी समस्याएं दूर हो जाती है। इसे करने से आप मन शांत रहता है और शरीर को एनर्जी भी मिलती है। इसके अलावा अगर आपको माइग्रेन की समस्या है तो वह भी इससे दूर हो जाएगी।

 


3. थॉयराइड की समस्या

इस आसन को करने से फेफड़े खुलते हैं और आपको थॉयराइड जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। इसके अलावा यह अर्थराइटिस और पैरों से जुड़ी समस्या को भी दूर करता है।


4. स्ट्रांग पाचन क्रिया

सेतुबंधासन पाचन अंगों से लेकर कोलन को मसाज करने का काम करता है। इसलिए इस आसन को रोज करने से आपका पाचन तंत्र स्ट्रांग होता है। इसके अलावा इसे पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे अपच, एसिडिटी, कब्ज और पेट का दर्द भी दूर हो जाता है।

 


5. पीरियड्स दर्द से आराम

महिलाओं के लिए यह आसन करना बेहद फायदेमंद होता है। इस आसन को करने से न सिर्फ पीरियड्स दर्द से राहत मिलती है बल्कि यह मेनोपॉज के लक्षणों को भी दूर करता है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं के लिए भी यह आसन अच्छा माना जाता है।

 


6. ब्लड प्रैशर को करता है नियंत्रित

खुली हवा में रोज इस आसन को करने से ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है, जिससे ब्लड प्रैशर के साथ अस्थमा, अनिद्रा और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियां दूर हो जाती है।

 


सेतुबंधासन करने के लिए सावधानियां

1. यह आसन तब किया जाना चाहिए जब आपको आंत और पेट से जुड़ी कोई प्रॉब्लम न हो।


2. अगर आपको किसी भी तरह की पीठ संबंधित समस्या है तो आप इस आसन कभी न करें।


3. गर्दन की चोट से ग्रस्त लोगों को भी यह आसन नहीं करना चाहिए।