कहते हैं सास-बहू के रिश्ते की मूल पहचान है उनके बीच में चलती नोख-झोंक। इसके ऊपर एक कहावत भी प्रचलित है, जो इस प्रकार है कि जिस घर में दो बर्तन होंगे, वो खनकेंगे जरूर। अकसर लोगों के मुंह से कहते सुना है कि सास-बहू में कभी नहीं पटती और न पट सकती है। लेकिन वास्तु शास्त्र  के अनुसार यह संभव हो सकता है कि इनके बीच दोस्ती व प्यारकायम हो। इसके लिए कुछ ज्यादा करन की जरूरत भी नहीं पड़ती, बस अपनाने होंगे वास्तु के कुछ उपाय। वास्तु के इन उपाय को अपनानें दोनों के मन में एक दूसरे के लिए प्यार भर सकता है। तो आइए आपको बताते हैं कुछ आसान से उपाय जिनसे मीठा हो सकता है दोनों का रिश्ता।घर में तुलसी का पौधा लगाएं और प्रतिदिन इसका पूजन करें। सुबह-शाम दीपक लगाएं। इस उपाय को नियमित करने से घर में सदैव शांति का वातावरण बना रहेगा।


एक नारियल लें और उस पर काला धागा लपेट दें, काला धागा लपेटने के बाद इसे पूजा के स्थान पर रख दें। शाम को उस नारियल को धागे सहित जला दें। यह टोटका 9 दिनों तक करें। ऐसा करने से निश्चित ही असर देखने को मिलेगा।गाय के गोबर का दीपक बनाकर उसमें गुड़ तथा मीठा तेल डालकर जलाएं। इसके बाद इसे घर के मुख्य द्वार के मध्य में रखें। इस उपाय से घर में शांति बनी रहेगी तथा समृद्धि में वृद्धि होगी।


अगर घर में हमेशा अशांति रहती है तो घर के मुख्य द्वार पर बाहर की ओर श्वेतार्क (सफेद आक के गणेश) लगाने से घर में सुख-शांति बनी रहेती है।यदि आपके घर में किसी बुरी शक्ति के कारण झगड़े होते हैं, तो प्रतिदिन सुबह घर में गोमूत्र अथवा गाय के दूध में गंगाजल मिलाकर छिड़काव करें। इससे घर की शुद्धि होती है और बुरी शक्ति का प्रभाव कम होता है। 


घर के बर्तन के गिरने टकराने की आवाज़ न आने दें। बर्तन की आवाज़ आपसी क्लेश को दर्शाते हैं और अपने घर को हमेशा सजाकर सुन्दर रखें।


बहू को चाहिए की सूर्योदय से पहले घर में झाडू लगाकर कचड़े को घर के बाहर फेंके।

प्रतिदिन पहली रोटी गाय को एवं आखरी रोटी कुत्ते को खिलाएं।


रोटी बनाते समय तवा गर्म होने पर पहले उस पर ठंडे पानी के छींटे डाले और फिर रोटी बनाएं।