छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में निलंबन के 7 साल गुजर जाने के बाद भी याचिकाकर्ता के प्रकरण को अनिर्णीत रखने पर हाईकोर्ट ने 7 दिनों के अंदर उसे अपने पद पर बहाल करने का आदेश दिया है. मामला कोरिया जिले के अंतर्गत पदस्थ होमगार्ड रामफल से जुड़ा है.


आपको बता दें कि होमगार्ड रामफल ने अपने वरिष्ठ अफसरों के खिलाफ बीते 31 मार्च 2011 में जिला कलेक्टर से शिकायत की थी. जिला प्रशासन ने होमगार्ड की शिकायत के आधार पर जब मामले की जांच शुरू की तो उन्होंने शिकायत को सही पाया. इसके बाद से ही दोषी अधिकारी शिकायतकर्ता होमगार्ड रामफल भगत से बैर रखने लगा.


लिहाजा, इसके बाद बिना किसी कारण के बीते 1 जुलाई साल 2011 को उसे निलंबित कर दिया गया. हालांकि इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं था. बहराहल, इस पर पाड़ित होमगार्ड ने विभाग में एक अभ्यावेदन दिया था, जिस पर 7 साल तक कोई निर्णय नहीं लिया गया. इसके बाद पीड़ित होमगार्ड ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की.


इस पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिकाकर्ता को विभाग के सामने अभ्यावेदन पेश करने का निर्देश दिया. साथ ही विभाग को इस अभ्यावेदन पर 7 दिनों के अंदर याचिकाकर्ता को फिर से बहाल करने का आदेश दिया है.