अगर आपके लव-रिलेशन में दिक्कत आ रही है और आप चाहकर भी चीजों को सकारात्मक रुख नहीं दे पा रहे हैं तो इन बातों पर गौर करना जरूरी है। नहीं तो सारे प्रयास धरे के धरे रह सकते हैं। अपने रिश्तों में प्यार के फूल खिलाने के लिए जरूरी है इन छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना…

अगर आपने घर में इनडोर प्लांट लगाएं हैं तो ध्यान रखें कि इनमें कोई कांटेदार पौधा जैसे कैक्टस इत्यादि न हो। वास्तु के अनुसार, घर में कांटेदार पौधे लगाने से नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, जिससे रिश्तों के बीच कड़वाहट पनपती है।

पति-पत्नी के रिश्ते में प्रेम बना रहे और घर में समृद्धि कायम रहे, इसके लिए जरूरी है कि फालतू का कबाड़ घर में इकट्ठा न होने दें। ऐसी चीजें जिनकी जरूरत आपको पिछले 1 साल में नहीं पड़ी है, आगे भी उनके काम आने की संभावना कम होती है। व्यर्थ का मोह छोड़कर अनुपयोगी चीजों को घर से हटा दें। ये परिवार के सदस्यों की ऊर्जा का भी ह्रास करती हैं।

हर रोज सुबह स्नान के बाद घर में दीया और धूप जरूर जलाएं। यदि दीया जलाना संभव न हो तो मोहक खुशबू की धूपबत्ती जरूर चलाएं। धूप करेंगे और भी लाभ होगा। इससे घर की नकारात्मकता दूर होती है। सुबह शाम घर में कपूर जलाने से घर में कलह का वातावण दूर होता है। एक दीये या कटोरी में कपूर लेकर उस पर कुछ बूंदे गाय का घी या तिल का तेल डालकर इसे जला दें। लाभ होगा।

हम घर को अंदर से तो साफ करते हैं लेकिन आमतौर पर घर का कबाड़ उठाकर छत या बालकनी में जमा कर देते हैं। ध्यान रखें ये दोनों ही घर का हिस्सा हैं। अंदर की सफाई का कोई लाभ नहीं है अगर छत और बालकनी में फालतू की चीजें भरी हैं।

वर्तमान समय में यह जैसे हर घर का ट्रेंड बन गया है। रात को खाना खाने के बाद झूठे बर्तनों को शिंक में पानी भरकर छोड़ दिया जाता है। शायद आप नहीं जानते होंगे कि आपके घर की तरक्की और आपके रिश्तों के सौहार्द के लिए ऐसा करना कितना हानिकारक है। यह एक वास्तु दोष क्रिएट करता है, जो आपको रिश्ते और करियर दोनों में बाधा पहुंचाता है। अगर ऐसा करना बंद न किया तो चाहकर भी परिवार को एक सूत्र में नहीं बांध पाएंगे।