जबलपुर । भारतीय जनता पार्टी जबलपुर महानगर की महत्वपूर्ण कामकाजी बैठक कटनी महापौर शशांक श्रीवास्तव, पूर्व विधायक गिरिराज पोद्दार, नगर अध्यक्ष जी.एस.ठाकुर की उपस्थिति में भाजपा कार्यालय दीक्षितपुरा में आयोजित की गई। 

पार्टी संगठन के निर्देश पर आयोजित आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाते हुए जानकारी दी गई साथ ही सभी विधानसभाओं में चल रही विकास यात्राओं पर भी चर्चा की गई। 

बैठक को संबोधित करते हुए अतिथियों ने कहा कि हमारी सरकार ने लोगों को आर्थिक, सामाजिक रूप से सक्षम बनाने तथा अंतिम पंक्ति के व्यक्ति का उत्थान करने के लिये लगातार कार्य किये हैं और अनेकों ऐसी योजनाएं बनाई हैं जिनका लाभ प्रदेश एवं देश की जनता को मिल रहा है। वक्ताओं ने कहा कि पार्टी संगठन ने संगठन विस्तार के साथ आगामी विधानसभा एवं लोकसभा के चुनावों में प्रत्येक कार्यकर्ता की भागीदारी सुनिश्चित करने एवं हमारी प्रदेश एवं केन्द्र की सरकार की योजनाओं को जन जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाई हैै। कार्यकर्ताओं को संगठन द्वारा बताये गये कार्यों को बूथ स्तर तक संपादित कराना होगा इस हेतु यह बैठक आहूत की गई है। 

बैठक में प्रदेश कार्यसमिति सदस्य धीरज पटेरिया, दीपांकर बैनर्जी, विजयराज पटैरिया, जय सचदेवा, पंकज दुबे, संतसिंह परिहार, तृष्णा चटर्जी, योगेन्द्र राजपूत, आशा करोसिया, संतोषी ठाकुर, मधुबाला राजपूत, गोकुल केशरवानी, रवीन्द्र पचौरी, राजेश मिश्रा, सुनील नेता, फतहचंद वासवानी, सोनू वर्मा, श्रीकांत साहू, राजीव राठौर, पिंटू पटेल, सतेन्द्र शर्मा, बलराज सोनकर, पंकज मिश्रा, अनिल वर्मा, संजय नाहतकर, संजय जायसवाल, सीतारमण दुबे, दामोदर सोनी, संजय ठाकुर, शैलेन्द्र राजपूत, दीनानाथ पाठक, जयकांत उपाध्याय, राजेश द्विवेदी, सुशील चौबे, राजीव बेटिया, प्रणीत वर्मा उपस्थित थे। जबलपुर। नर्मदा पंचकोषी परिक्रमा भेड़ाघाट स्थित हरे कृष्ण आश्रम से प्रत्येक माह की पूर्णिमा को निकाले जाने वाली परिक्रमा आज पुरुषोत्तम माह की पूर्णिमा पर प्रात: ५ बजे से कई जत्थों में संकीर्तन करते हुये निकली। नर्मदा मैया की महाआरती के साथ परिक्रमा संचालक भगवान श्री हनुमान जी महाराज की सूक्ष्य उपस्थिति में निकाली गयी। पंचकोषी परिक्रमा विद्या भारती के संगठन मंत्री डॉ. पवन तिवारी, वरिष्ठ प्रचारक विश्वजित, राजकुमार वेले, योगेंद्र दुबे, डॉ. नरेंद्र कोष्टी, डॉ आदित्य मिश्रा आदि संतों के नेतृत्व में कई चरणों में निकाली गयी। जितनी जल की आवश्यकता हो उतने ही जल का उपयोग करना चाहिये। रानी दुर्गावती ने सैकड़ों वर्ष पहले जब आज के समय से बहुत कम आबादी रही है तब उन्होंने ५२ तालाब के साथ साथ कई कुओं का निर्माण कराया जो आज भी शहर को जल दे रहे हैं। अब मय आ गया है कि हमें जल को बचाना, पर्यावरण को बचाना, जल का संवर्धन करना, संरक्षण की पहल आम भक्तों से करना पडेगी नहीं तो आने वाली पीढ़ी हमें कभी माफ नहीं करेगी। परिक्रमा आश्रम से प्रारंभ होकर पंचवटी, चौसठ योगिनी, धुआंधार, लम्हेटाघाट नाव पा कर शनिवार मंदिर होते हुये डुडवारा, न्यू भेड़ाघाट से सरस्वती घाट होते हुये नांव पार कर हरेकृष्ण आश्रम में विशाल भंडारे के साथ परिक्रमा का समापन हुआ। रास्ते रास्ते भक्तां ने जल, खीर, फल, शरबत आदि का वितरण किया। बद्रीनाथ धाम से पूजित गोमती चक्र का वितरण प्रसाद स्वरुप किया गया। इस अवसर पर नर्मदा महाआरती के संस्थापक डॉ. सुधीर अग्रवाल, योगाचार्य अध्यक्ष डॉ शिवशंकर पटेल, पं. मनमोहन दुबे संकीर्तनाचार्य, श्याम मनोहर पटेल, अमिनेष कटेहा, मनोज गुलाबवानी, सत्यप्रकाश नामदेव, वैâलाश विश्वकर्मा, शीर्ष अग्रवाल दुर्गा पटेल आदि उपस्थित थे।