छत्तीसगढ़ के धमतरी में कसही गांव में लगातार डायरिया के रोगी मिल रहे हैं. गांव के 17 लोगों को डायरिया के मरीज के रूप में चिह्नांकित किया गया है. जबकि चार गंभीर मरीजों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. मरीजों में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तबके के लोग शामिल है.


धमतरी जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर हंकारा पंचायत के आश्रित ग्राम कसही में इन दिनों लोगों को उल्टी-दस्त की शिकायत हो रही है. डायरिया के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए गांव के मुखिया सरपंच मुुकेश धुव ने स्वास्थ्य अमले को इसकी जानकारी दी. बोडरा उपस्वास्थ्य केन्द्र के सुपरवाईजर और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की टीम ने गांव में डायरिया पीड़ितों की पहचान की है.


बताया गया है कि गांव के छन्नूलाल धुवंशी, चम्मन कुमार, सुशीला पाल, श्याम धुव, वैशाली, तुलसी धुव, भूषण कश्यप, मंजूलता कश्यप, सुभाष कश्यप, बालमकुंद , डोमन, राधेश्याम कश्यप, रामफूल कश्यप समेत 17 लोग डायरिया के चपेट में है. इनमें से चार लोगों को बेहतर इलाज के लिए केन्द्री के स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया है.

स्वास्थ्य अमले के साथ पीएचई अमला भी गांव के नल कनेक्शनों की जांच में जुटा है, लेकिन ​फिलाहाल कहीं कोई गड़बड़ी नहीं मिली है. स्वास्थ्य विभाग के सुपरवाइजर एसआर टण्डन का कहना है कि गांव में दूषित जेल के सेवन या फिर अन्य कारणों से डायरिया संक्रमण फैला हुआ है, उनका मानना है कि एक मरीज अपने किसी डायरिया पीड़ित रिश्तेदार से मिलने अस्पताल पहुंचा था. जहां तीन-चार डायरिया के मरीज होने की बाते सामने आई है.


ऐसे में डायरिया पीड़ित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को संक्रमण फैलने कि आशंका जताई गई है. फिलहाल स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी ओआरएस की पैकेट घरो-घर वितरण कर सेवन करने की सलाह दे रहे है. वहीं पीने के पानी क्लोरिन डालने की नसीहत दे रहे हैं.