बुंदेलखंड में गहराते पेयजल संकट से निपटने के लिए मानसून से पहले की तैयारियां शुरू हो गई है. आसपास के लोग श्रमदान करके नदी और तालाबों के गहरीकरण का काम कर रहे हैं.


सागर जिले के पिठोरिया गांव में एकता परिषद ने श्रम शिविर का आयोजन किया है. पिठोरिया के शिविर में हिस्सा लेने आए लोग श्रमदान कर यहां की बरसाती नदी में साफ -सफाई कर रहे हैं. यह क्रम 28 मई तक चलेगा.


इस मौके पर अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता रमन जैन ने कहा, "गांव के लोगों को संगठित और एकजुट होना होगा तभी वे अपने वोट की ताकत पर सरकार को झुकाकर अपनी समस्याओं का समाधान करा सकते हैं."


इस मौके पर एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष रण सिंह परमार ने कहा कि गरीबों के श्रम में बड़ी ताकत होती है.

परिषद के सदस्य ने योजनाओं और जनता के अधिकारों के संबंध में जानकारी दी. इस श्रमदान शिविर में सिहोर, रायसेन, विदिशा एवं सागर जिले के सौ युवा और आसपास के 30 गांव के लोग भाग ले रहे हैं. शिविर सोमवार 28 मई तक चलेगा.