बॉलीवुड एक्ट्रैस शिल्पा शेट्टी 40 की उम्र में भी बेहद खूबसूरत और फिट है। उन्हें देखकर आम यंगस्टर्स भी फिटनेस को लेकर जागरूक होने लगे हैं। उनकी टोन्ड बॉडी फिगर और फिटनेस का राज जानने का तो हर कोई इच्छुक है। दरअसल, वह अपनी फूड हैबिट्स और एक्सरसाइज रूटीन में बदलाव करके लाइफस्टाइल में सुधार करती रहती हैं। बहुत से लोग फिटनेस के लिए गलत बातों पर भी विश्वास कर लेते हैं लेकिन शिल्पा पूरी बात जानने के बाद ही किसी भी एक्सरसाइज या डाइट को अपनी रूटीन में शामिल करती है। अगर आप भी शिल्पा की तरह फिट और हैल्दी रहना चाहते हैं तो आज ही डाइटिंग से जुड़े इन मिथ को मानना छोड़ दें। चलिए जानते हैं डाइटिंग और वेट लॉस से जुड़े 5 मिथ।

 


1. लो-फैट या नो-फैट डाइट लेना

वजन कम करने के लिए अक्सर लोग लो-फैट या नो-फैट डाइट लेना सही समझते हैं लेकिन यह गलत है। शरीर में एनर्जी और विटमिंस बनाए रखने के लिए फैट युक्त डाइट लेना बहुत जरूरी होता है। फिट रहने से लेकर वजन कम करने तक के लिए फैट की एक निश्चित मात्रा लेना बहुत जरूरी है। कोशिश कर अपनी डाइट में अनसैचुरेटेड फैट के बजाए सैचुरेटेड फैट से युक्त बनी चीजें शामिल करें।

 


2. वजन कम करने के लिए बैठे रहना

शोध के अनुसार, बॉडी रेस्ट करते वक्त ज्यादा कैलोरी यूज करती है। इसलिए भोजन करने के बाद थोड़ी-देर जरूर टहलें। इसके अलावा काम के बीच में भी थोड़ी-थोड़ी देर टहलने से कैलोरी बर्न होती है। एक ही जगह पर ज्यादा देर बैठने से वजन बढ़ने का खतरा भी बढ़ जाता है।

 


3. कोलेस्ट्रॉल का कोई महत्व नहीं

कोलेस्ट्रॉल लीवर की सहायता से बढ़ने वाला पर्दाथ है। शरीर में इसकी ज्यादा मात्रा होने पर हृदय संबंधी समस्याएं हो सकती हैं इसलिए इसे कंट्रोल करना बहुत जरूरी है। मगर इतना मतबल यह नहीं कि कोलेस्ट्रॉल युक्त चीजों को नहीं खाना चाहिए। मीट, पेस्ट्री, चीज, क्रीम और मक्खन में बैड कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है, जबकि बीज, सब्जियों के तेल और नट्स मेें गुड कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है, जिसे आप खा सकते हैं।

 


4. कमजोर होते हैं शाकाहारी लोग 

मांसाहारी लोगों का मानना है कि शाकाहारी लोगों में पोषण की कमी होती है लेकिन ऐसा नहीं है। शाकाहारी लोग पनीर, नट्स, दाल और अनाज जैसी चीजों का सेवन करके भरपूर पोषण ले सकते हैं। फिट रहने के लिए प्रोटीन की जरूरत होती है, जोकि शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह की चीजों में पाया जाता है। शरीर की टोटल एनर्जी में से 15 प्रतिशत एनर्जी का सोर्स प्रोटीन होना चाहिए।

 


5. स्वस्थ रहने के लिए जरूरी है वजन कम होना

बहुत से लोगों का मानना है कि पतले लोग हमेशा स्वस्थ रहने है, जोकि पूरी तरह गलत है। स्वस्थ रहने के लिए हैल्दी लाइफस्टाइल का होना जरूरी है, न कि वजन कम होना। शरीर का वजन उम्र, हाइट और दूसरे फैक्टर्स पर निर्भर करता है। ऐसा जरूरी नहीं है कि पतला व्यक्ति स्वस्थ हो और मोटा बीमार। हांलाकि ज्यादातर बीमारियों का कारण मोटापा होता है लेकिन ऐसा गलत खान-पान की आदतों से होता है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए खानपान की सही आदतें अपनाना जरूरी होता है।