फेंगशुई में विंड चाइम को खुशहाली लाने वाली ध्वनि तरंगों का साधन माना गया है। यह घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने वाला खूबसूरत शोपीस है। इसकी ध्वनि से घर में सुख, शांति और समृद्धि आती है। इसलिए इसे लगाने से पहले इन बातों का ध्यान जरूर रखें-

विंड चाइम हमेशा खोखली नली वाली ही लेनी चाहिए। 



विंड चाइम खरीदते समय उसके मैटीरियल और उसमें लगी रॉड की संख्या को जरूर ध्यान में रखें।



यदि पीतल या स्टील की बनी विंड चाइम खरीद रही हैं, तो इसमें रॉड की संख्या 6 या 7 होनी चाहिए, यह घर में संपन्नता लाती है।


यदि विंड चाइम बांस की बनी हो, तो इसमें रॉड की संख्या 3 या 4 होनी चाहिए। इस तरह के विंड चाइम को घर में लगाने से उसके गुणों का सर्वाधिक लाभ उठाया जा सकता है। यह घर की सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाती है या फिर ऐसा भी कह सकते हैं कि किस्मत का ताला खोलती है।



5 रॉड वाले विंड चाइम को घर में लगाने से नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती है। साफ  शब्दों में कहें तो यह बुरी शक्तियों को समाप्त कर सकारात्मक ऊर्जा की उत्पत्ति को बढ़ावा देती है।



6 रॉड वाली पीले रंग की विंड चाइम को उत्तर-पश्चिम दिशा में लगाया जाए तो यश और पैसा दोनों आपके द्वार पर होंगे।

7 रॉड वाली सिल्वर और सफेद रंग की विंड चाइम को पश्चिम दिशा में लगाने से आपके पारिवारिक रिश्ते मधुर होंगे और दोस्तों के साथ भी खूब बनेगी।



जॉब में तरक्की पाना चाहती हैं, तो यैलो कलर के विंड चाइम को उत्तर-पश्चिम दिशा में लटकाया जा सकता है।



धातु की बनी विंड चाइम का यह लाभ होता है कि उसे किसी भी तत्व के रंग से रंगा जा सकता है।



सिरेमिक के विंड चाइम काफी खूबसूरत दिखते हैं। इसे लगाते समय भी दिशा का ख्याल रखना जरूरी है। इसे दक्षिण-पश्चिम, उत्तर-पूर्व या केंद्र में लगाना अच्छा रहेगा।



लकड़ी और बांस के विंड चाइम घर को सौम्य लुक देते हैं। इन्हें पूर्व तथा दक्षिण-पूर्व दिशा में लटकाना चाहिए। ये घर-गृहस्थी के लिए अच्छे माने जाते हैं।



यदि अपने दोस्तों में शहर या पड़ोस के प्रतिष्ठित लोगों को शामिल करना चाहती हैं तो लिविंग रूम के उत्तर-पश्चिम दिशा में 6 या 8 रॉड वाले विंड चाइम को लटकाएं।



6 या 8 रॉड की विंड चाइम किस्मत को बुलंद करती है। भाग्य के दरवाजे खुल जाते हैं। 



कुछ लोगों को समाज में लोकप्रियता पाने का शौक होता है, वे चाहते हैं कि लोग उनको सम्मान दें। यदि आप भी ऐसे लोगों की श्रेणी में शामिल हैं, तो सिरेमिक से बने 2 या 9 रॉड के विंड चाइम को लिविंग रूम के दक्षिण-पश्चिम कोने में लगाएं।



कभी भी धातु के विंड चाइम को पूर्व में और लकड़ी के विंड चाइम को दक्षिण-पश्चिम दिशा में लटकाना शुभ नहीं माना जाता।



इस बात का भी ख्याल रखें कि किस जगह में विंड चाइम लगाया जाना है, जैसे बगीचे में लगाने के लिए बड़ा सा विंड चाइम जरूरी है, छोटा लगाने पर वह दिखेगा नहीं।



आपने नन्हे-मुन्ने का कमरा उत्तर की ओर बनाया है तो उस कमरे के लिए धातु की विंड चाइम इस्तेमाल करें। 



फेंगशुई के अनुसार, पश्चिम दिशा को बच्चों का क्षेत्र माना जाता है। इस स्थान पर अंदर से खाली धातु की बेलनाकार विंड चाइम लगाएं, तो घर में शांति कायम रहेगी। 



यदि आपके जीवन और रिश्तों में ठहराव-सा आ गया है, तो पहले ये देखें कि कहीं आपके घर के आगे विशाल इमारत तो नहीं है। यदि ऐसा है, तो इस कारण बनी नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए विंड चाइम लगाएं, इससे घर में सौभाग्य और समृद्धि आएगी।



ऐसा माना गया है कि दिशा के तत्व के अनुसार ही विंड चाइम का चयन करें, तभी उसका भरपूर लाभ उठाया जा सकता है। फेंगशुई में दक्षिण-पूर्व और पूर्व दिशा को वृक्ष और लकड़ी से जुड़ा माना गया है, इसलिए इस दिशा में लकड़ी की विंड चाइम लगाएं, तो उसका अधिक लाभ होगा।