वॉशिंगटन । कुछ ही दिनों में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग की मुलाकात होनी है। लेकिन उससे पहले ही ट्रंप ने उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन को धमकी देते हुए कहा है कि यदि उत्तर कोरिया के साथ होने वाली ऐतिहासिक वार्ता सार्थक नहीं हुई तो वह अगला कदम उठाएंगे। उन्होंने किम के मुलाकात पर बदले रुख के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया। ट्रंप ने कहा कि यदि किम परमाणु हथियार कार्यक्रम छोड़ देते हैं तो वह सत्ता में बने रहेंगे। यदि ऐसा नहीं हुआ तो उन्हें तबाह कर दिया जाएगा। बता दें कि हाल ही में किम जोंग ने ट्रंप को धमकी देते हुए कहा था कि यदि अमेरिका परमाणु कार्यक्रम को बंद करने के लिए एकतरफा दबाव डालेगा तो वह 12 जून को सिंगापुर में होने वाली बैठक में शामिल नहीं होंगे। इसके साथ ही उत्तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच चलने वाले संयुक्त सैन्य अभ्यास पर भी एतराज जताया। किम के इसी बयान का जवाब देते हुए ट्रंप ने कहा कि अगर वह अपने परमाणु हथियारों को त्यागते हैं तो मैं किम को सुरक्षा प्रदान करने के लिए बहुत कुछ करने को तैयार हूं। साथ ही उन्होंने कहा कि जो सुरक्षा उन्हें दी जाएगी वह बहुत मजबूत होगी। सबसे अच्छी बात यह होगी कि वह समझौता कर लें। उन्होंने कहा कि हमारी मुलाकात के लिए हमारे लोग सचमुच काम कर रहे हैं और उत्तर कोरिया की तरफ से मुलाकात रद्द करने से जुड़ा कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। ट्रंप ने उत्तर कोरिया को चेतावनी देते हुए कहा कि उनके पास दो विकल्प हैं। पहला परमाणु कार्यक्रम बंद करके सत्ता में बने रहें या दूसरा लीबिया के नेता मुअम्मार गद्दाफी की तरह अपनी दुर्दशा करें, जिन्हें 2011 में नाटो के समर्थन वाले विद्रोहियों ने सत्ता से बेदखल कर मार गिराया था।