प्रदेश के बिलासपुर-पेंड्रा के झाबर गांव में पीलिया से एक छात्रा की मौत हो गई. गांव में दूषित पानी पीने के कारण कई बच्चों में पीलिया फैल गया है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन ने अभी तक गांव के हालातों पर चिंता जाहिर नहीं की है.


दरअसल पेंड्रा क्षेत्र के झाबर गांव में दूषित पानी के कारण पीलिया ने अपनी जड़े जमाई हुई है. गांव के ही एक परिवार के दो बच्चे पीलिया से ग्रसित है. पीलिया से छटी कक्षा की छात्रा की मौत हो गई और मृतका का छोटा भाई भी पीलिया से ग्रसित है.


पेंड्रा विकास खंड के गोढ़ाटोला झाबर में रहने वाले नारायण सिंह मजदूरी करते  हैं और उनकी पत्नी भी मजदूर कर पारिवारिक आवश्यकताओं को पूरा करते हैं. उनकी बेटी जूही कक्षा 6 में पढ़ाई करती थी. जूही लगभग एक माह से बीमार थी जिसका इलाज गांव में ही चल रहा था. बच्ची का ईलाज करवाने के बाद भी बच्ची की अचनाक हुई मौत से गांव में डर का माहोल फैल गया है.


जानकारी के अनुसार मृतका का छोटा भाई करण भी पीलिया की चपेट में है. ग्रामीणों का कहना है कि मोहल्ले में साफ पानी नहीं आता, जिसके चलते ग्रामीण हैंडपंप का गंदा पानी पीने के लिए मजबूर है. इसी पानी के चलते करीब एक दर्जन से ज्यादा बच्चे पीलिया की चपेट मे है. गांव में चिकित्सा व्यवस्थाएं भी ना कर बराबर है जिससे बच्चों को समय पर उपचार नहीं मिल पा रहा है.