नई दिल्ली  कर्नाटक विधानसभा चुनाव नतीजों में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी ने राज्य में सरकार बना ली है. बहुमत ना होने के बावजूद बी. एस. येदियुरप्पा ने गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. अब कर्नाटक फॉर्मूले के सहारे विपक्षी दल बीजेपी को घेरने में जुट गए हैं. गोवा, बिहार के बाद अब मणिपुर और मेघालय में भी बीजेपी को उसके ही तरीके से मात देने की रणनीति पर काम किया जा रहा है.


गोवा में जहां कांग्रेस नेताओं ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है, इनके बाद बिहार में भी तेजस्वी यादव ने ऐसा ही किया है. और अब मणिपुर में पूर्व मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह, मेघालय में पूर्व सीएम मुकुल संगमा ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है.


आपको बता दें कि इन सभी राज्यों में इन नेताओं की पार्टी सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन सत्ता बीजेपी के हाथ में है. सभी पार्टियां अब कर्नाटक फॉर्मूले बहाने बीजेपी को घेरने की कोशिश कर रही है.


गोवा में क्या हुआ...?


गोवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गिरीश चोडणकर ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मिलने का समय मांगा है. कांग्रेस राज्यपाल से गोवा में भी कर्नाटक फॉर्मूला अपनाने की अपील कर सकती है. कांग्रेस का तर्क है जब कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण मिला है, तो गोवा में भी ऐसा ही होना चाहिए.


क्या हुआ था गोवा में..?


आपको बता दें कि जब गोवा की 40 विधानसभा सीटों के नतीजे आए तो स्थिति बिल्कुल कर्नाटक जैसी ही थी. कांग्रेस 16 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी, लेकिन बहुमत से दूर रही थी. बीजेपी ने 14 सीटों पर कब्जा जमाया था और अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बना ली थी.


बिहार में एक्टिव हुए तेजस्वी


गोवा की तरह बिहार में भी राजद एक्टिव हो गई है. पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है. तेजस्वी यादव शुक्रवार को अपने सभी विधायकों के साथ राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात करेंगे. तेजस्वी का कहना है कि क्योंकि उनकी पार्टी बिहार में सबसे बड़ी पार्टी है तो उन्हें भी सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए.


मणिपुर में क्या हैं हालात..?


आपको बता दें कि मणिपुर में कुल 60 सीटें हैं, यानी बहुमत के लिए 31 सीटें चाहिए थीं. कांग्रेस ने 28 और बीजेपी ने 21 सीटें जीतीं थीं. लेकिन बीजेपी ने एनपीपी समेत अन्य दलों के साथ सरकार बना ली.


मेघालय में कांग्रेस को लगा था बड़ा झटका...


सबसे बड़ा झटका कांग्रेस को बीजेपी ने मेघालय चुनाव में दिया था. यहां कांग्रेस ने 20 सीटें जीतीं थी, वहीं बीजेपी ने केवल 2 सीटें. इसके बावजूद एनपीपी के नेतृत्व में 6 दलों के साथ बीजेपी ने सरकार बना ली.


कर्नाटक में क्या हुआ है..?


कर्नाटक में 15 मई को जब नतीजे आए तो बीजेपी 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. वहीं नतीजों के बाद कांग्रेस और जेडीएस एक साथ आ गईं, दोनों की कुल सीटें 116 हुईं. लेकिन सरकार बनाने का न्योता बीजेपी को मिला और गुरुवार को नई सरकार ने शपथ भी ले ली.