सिसक-सिसककर रो पड़ा बेटा विदिशा जिले के लटेरी का मामला


गंजबासौदा(लटेरी)// (सुरेंद्रसिंह रघुवंशी) देश के अन्नदाता की कभी कर्ज से परेशानी में जान जाती दिखती है तो कभी अपने अधिकार मांगने पर पुलिस की गोलियो से  जान गवाता नजर आता है। लेकिन सरकार में बैठे लोगों को न तो अन्नदाता का दर्द दिखाई पड़ रहा है, न ही उसकी परेशानीयो से ही कोई वास्ता रहा है। चिंता है तो उसके वोट की, आज देश का अन्नदाता खेतीबाड़ी के सारे काम छोड़कर लाईनो में नजर आ रहा है, इस बार मंडियों में कम दाम मिलने पर अपनी उपज को मजबूरीवश समर्थन मूल्य केंद्रों पर दो-दो चार-चार दिन लाईनों में लगकर रतजगा कर भीषण गर्मी में उपज को बेचने को मजबूर हो रहा है। तो वही अपनी उपज विक्रय के बाद  भुगतान के लिए बैंको की लंबी-लंबी लाइनों में खड़ा अपनी बारी आने का इंतजार कर रहा है। आज इसी इंतजार की बेला में एक अन्नदाता की मौत हो गई।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विदिशा जिले की लटेरी तहसील में आज तड़के एक किसान
मूलचंद पुत्र उमराव सिंह मैना 65 बर्ष निवासी बीजुखेड़ी
दो-तीन दिनों से मंडी परिसर में अपनी तुलाई का इंतजार कर रहा था कि आज सुबह अज्ञात कारणों के चलते उसकी मौत हो गई। इस घटना के बाद एसडीएम  सहित आला पुलिस अधिकारी पहुँचे मौके पर पहुँच गए।
किसानों ने आरोप लगाते हुये बताया कि मूलचन्द पिता उमराव तीन चार दिन पहले तुलाई के लिए चने लेकर आया था।
गुरुवार सुबह शौच से लौटकर आया तो अपने ट्रेक्टर के पास गिर गया। मौजूद लोगों ने पास जाकर देखा तो किशन मूलचन्द की मौत हो चुकी थी।
लगभग एक घंटे बाद विदिशा एसपी विनीत कपूर को इस मामले की सूचना दी गई तब जाकर पुलिस घटना स्थल पहुंची और शव अपने कब्जे में लिया।
डॉक्टर ना होने की स्तिथि में उक्त शव को पीएम के लिए पुलिस वाहन से शव सिरोंज भेजा गया है।
किसान की मौत से नाराज हुए किसानों ने मूलचन्द की मौत से स्थानीय प्रशासन को जमकर खरी खोटी सुनाई।
इस बीच घटना की जानकारी लगते ही एसडीएम अशोक कुमार मांझी, तहसीलदार शत्रुघनसिंह चौहान, सब इंस्पेक्टर बनबारी लाल मोके पर पहुंचे।
मृतक के बेटे ने बताया कि तीन चार दिन से हम फसल तुलाई के लिये लाइन में लगे थे आज पिताजी की मौत हो गई।
ऐसा पता होता की पिताजी की मौत हो जाएगी तो ऐसी फसल ही नही तुलवाने आते।
प्राप्त जानकारी के अनुसार विदिशा कलेक्टर  ने मृतक के परिवार को 4 लाख रुपयों की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई है। वही
घटना की जानकारी मिलने पर काँग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने  सांकेतिक धरना देकर मंडी गेट पर जाम लगा दिया।