अमेरिका के 2016 के चुनाव में हस्तक्षेप को लेकर कांग्रेस की एक सुनवाई के दौरान व्हिसल ब्लोअर ने कहा कि राजनीतिक परामर्श समूह कैंब्रिज एनालिटिका ने रूसी खुफिया सेवा से जुड़ी कंपनियों के साथ डेटा साझा किए थे.


फेसबुक के लाखों यूजर्स के डेटा का दुरूपयोग करने को लेकर सूचना लीक करने वाले क्रिस्टोफर विली ने सीनेट की एक समिति से कहा कि उनका मानना है कि रूसी खुफिया सेवा के पास कैंब्रिज एनालिटिका के जुटाए गए डेटा का एक्सेस था


विली ने आयोग से कहा कि फेसबुक यूजर्स के प्रोफाइल डेटा जुटाने के लिए ऐप्लिकेशनल बनाने वाले रूसी-अमेरिकी रिसर्चर एलेक्जांद्र कोगन रूस के प्रोजेक्ट्स पर भी काम कर रहे थे. इनमें ‘‘बिवेहियरल रिसर्च’’ से जुड़े प्रोजेक्ट शामिल है.


विली के कहा इसका मतलब है कि रूस के पास फेसबुक डेटा तक पहुंच थी. साथ ही इसका भी शक है कि कैंब्रिज एनालिटिका रूसी सुरक्षा सेवाओं का निशाना रही होगी और रूसी सुरक्षा सेवाओं को कंपनी के फेसबुक डेटा की जानकारी दी गई होगी.