इंदौर । शहर में चोरी व लूटपाट करने वाला गिरोह अपनी पहचान से ही पुलिस के हाथ लग गया। गिरोह के बदमाश फैशनेबल दाढ़ी के साथ नामी कंपनी के जूते, टीशर्ट और कान की बाली पहनकर वारदात करते थे। क्षेत्र की कई चोरियों के सीसीटीवी फुटेज पुलिस को मिले तो ये समानताएं मिलीं। पुलिसकर्मियों ने पड़ताल शुरू की और तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। इनमें दो भाई हैं।


टीआई अनिल यादव ने बताया विजय भांग घोटा दुकान, श्रीराम मार्केट, वीर सावरकर मार्केट, आड़ा बाजार की दुकानों सहित कोर्ट परिसर से बाइक चोरी की घटना के बाद थाने की टीम (जवाहर सिंह, सुरेश सहित अन्य पुलिसकर्मी) को लगाया। टीम ने घटनाओं के दौरान के सीसीटीवी फुटेज निकाले तो सभी चोरियों में तीन बदमाश दिखाई दिए। वे एक नामी कंपनी के जूते, टीशर्ट व कान की बाली पहने थे। इनकी फैशनेबल दाढ़ी भी है।


फुटेज के आधार पर पता चला कि पुराना चोर राजा उर्फ राजकुमार उर्फ डान पिता कमल सिसोदिया निवासी महावर नगर है। टीम ने उसे राजा हेमिल्टन रोड स्थित पालीवाल धर्मशाला के सामने से उसके भाई यश निवासी प्रजापत नगर सहित गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से अवैध रिवॉल्वर व एक चाकू बरामद किया। थाने लाकर पूछताछ की गई तो इन्होंने दोस्त सोनू पिता राजू फालके निवासी मोती तबेला के साथ चोरी करना कबूला। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया। राजा महंगे जूते व पीके नाम लिखी टीशर्ट पहनता था। वह कान में बाली डाले रहता था। पुलिस ने इन्हें जब्त कर लिया।


पिता का हुआ था एनकाउंटर


आरोपितों से विजय भांग घोटा से चुराई हुई 11 किलो वजनी चांदी की शिवजी की मूर्ति, नकदी सहित अन्य दुकानों से चुराया गया माल व बाइक समेत करीब साढ़े चार लाख का माल बरामद कर लिया। आरोपित गाड़ियों की नंबर प्लेट पर कीचड़ लगाकर वारदात करते थे। उन पर शहर के कई थानों में चोरी व लूट के 12 से ज्यादा मामले दर्ज हैं। दिसंबर 2017 में ही राजा व यश चोरी के मामले में जेल से छूटकर आए थे। इनका पिता कमल सिसोदिया भी नामी गुंडा था। उसका 15 साल पहले माचल में एनकाउंटर हुआ था।