नई दिल्ली कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी ने राज्य में सत्ता बनाने के लिए दावा पेश कर दिया है. इसके बाद दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अलावा सभी बड़े नेता पहुंचे. यहां कार्यकर्ताओं को पहले अमित शाह ने संबोधित किया और इसके बाद पीएम मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. पीएम ने सबसे पहले बनारस में हुए हादसे पर दुख जताया. उन्होंने कहा कि कर्नाटक की खुशी है, लेकिन बनारस में हुए हादसे से मन भारी है.


गुमराह करने वालों को जनता ने दिया जवाब: मोदी


पीएम मोदी ने कहा, 'कर्नाटक की विजय असामन्य और असाधारण विजय है. जनता जनार्दन भगवान का रूप होता है. कर्नाटक की जनता ने गुमराह करने वालों को जवाब दिया है. कर्नाटक की जनता को बधाई देता हूं. कोई सोच नहीं सकता था कि इस चुनाव में, कांग्रेस सिर्फ अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए भारत के संविधान को चोट पहुंचाने का हीन कृत्य करेगी. इस चुनाव ने मेरे मन का प्रभावित किया है.'


पीएम ने अमित शाह को दी बधाई


पीएम ने कहा, 'संगठन की शक्‍ति से किस प्रकार से चुनाव लड़ा जाता है ये अध्‍यक्ष जी (अमित शाह) से सीखा जा सकता है. कर्नाटक में जीत के लिए अमित शाह को बधाई.' पीएम मोदी ने कहा, 'कर्नाटक में जिस प्रकार से कार्यकर्ताओं ने मेहनत की है उनको सौ-सौ सलाम है. कर्नाटक के उज्जवल भविष्य में भाजपा कहीं पीछे नहीं रहेगी. मैं ये कर्नाटक की जनता को विश्वास दिलाता हूं.'


बंगाल में बीजेपी के कार्यकर्ताओं की हत्‍या हुई


पीएम ने कहा, 'बंगाल में बीजेपी के निर्दोष कार्यकर्ताओं की हत्‍या हुई. महान लोगों की धरती बंगाल को राजनीतिक स्वार्थ के लिए लहू-लुहान कर दिया गया है. लोकतंत्र के सीने में जो घाव पड़े हैं उस से उभरने के लिए सभी राजनीतिक दलों को, सिविक सोसाइटी को और न्यायपालिका समेत, हम सभी को सक्रिय भूमिका अदा करनी ही होगी.'  


कांग्रेस ने कर्नाटक चुनाव अनैतिक तरीके से लड़ा: शाह


वहीं, अमित शाह ने कहा, 'मैं कर्नाटक की जनता को ह्रदय से बधाई देना चाहता हूं. जनता ने कर्नाटक को कांग्रेस मुक्त करने का काम बड़े मन से किया है. आजादी के बाद कांग्रेस ने कर्नाटक का ये चुनाव सबसे अनैतिक तरीके से लड़ा. कर्नाटक का ये चुनाव लोकतंत्र में भरोसा रखने वाली जनता का एक संदेश है. हमारा ये विजय रथ रुकने वाला नहीं है. नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में आने वाले सभी चुनाव और 2019 का चुनाव इससे भी अधिक बहुमत में साथ NDA की सरकार बनाने का काम भाजपा करने जा रही है.'


फिलहाल कांग्रेस 78 सीटों पर या तो जीत दर्ज कर चुकी है या फिर आगे चल रही है. लेकिन उसने बीजेपी को रोकने के लिए जेडीएस को समर्थन का ऐलान कर दिया है. दोनों दलों ने राज्यपाल से भी मुलाकात की है. इधर येदियुरप्पा ने भी राज्यपाल से मुलाकात कर बहुमत साबित करन के लिए 48 घंटे मांगे हैं.