नई दिल्ली, जेएनएन। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले दिनों नेपाल का दौरा करके भारत वापस आए हैं। न्यूज एजेंसी पीटीआई में आई खबर के मुताबिक, पीएम मोदी ने वहां कई मुद्दों पर भाषण दिए, इनमें से एक मामला आइपीएल से जुड़ा भी था। यह सुनकर अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर पीएम मोदी नेपाल में भला आइपीएल की चर्चा क्यों करेंगे, दरअसल ये भारत और नेपाल के आपसी संबंध को लेकर बात चल रही थी।

मोदी का कहना था कि हम सिर्फ भौगोलिक ही नहीं क्रिकेट में भी एक-दूसरे से जुड़े हैं उन्होंने बताया कि एक नेपाली क्रिकेटर तो इस साल आइपीएल 11 में हिस्सा ले रहा है। आपको बता दें कि यहां पीएम मोदी 17 वर्षीय गेंदबाज के युवा खिलाड़ी संदीप लेमिछाने की बात कर रहे थे। संदीप आइपीएल के मौजूदा सीजन में दिल्ली डेयरडेविल्सद की टीम का हिस्सा हैं।

आइपीएल लीग के इतिहास में कई देशों के खिलाड़ी हिस्सा लेने भारत आते हैं, लेकिन संदीप लेमिछाने से पहले कोई नेपाली खिलाड़ी आइपीएल में शामिल नहीं हुआ था। संदीप अपने देश से आइपीएल में हिस्सा लेने वाले पहले खिलाड़ी हैं। 17 वर्षीय संदीप नेपाल क्रिकेट टीम के होनहार स्पिइनर हैं और उन्हें दिल्लीह डेयरडेविल्सं ने 20 लाख रुपये में खरीदा है। आपको बता दें कि शनिवार को संदीप ने आरसीबी के खिलाफ खेलते हुए 25 रन देकर 1 विकेट लिया था।

क्रिकेट का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है लेकिन नेपाल अभी भी इससे अछूता है अभी तक नेपाल की टीम को वनडे या टी-20 का दर्जा नहीं मिला है। इसके बावजूद संदीप की प्रतिभा से प्रभावित होकर दिल्लीो ने उन्हें को अपनी टीम का हिस्सा बनाया। संदीप साल 2016 के अंडर 19 वर्ल्डलकप में में सुर्खियों में आए जब 14 विकेट लेकर वो टूर्नामेंट के दूसरे नंबर के गेंदबाज बने थे। इस टूर्नामेंट में संदीप ने आयरलैंड के खिलाफ हैट्रिक भी ली थी। इस मैच में संदीप ने 27 रन देकर पांच विकेट हासिल किए थे। इसके बाद संदीप के प्रदर्शन में लगातार सुधार आता गया और अब उन्हें आइपीएल में खेलने का मौका मिला।

शनिवार को संदीप लेमिछाने ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के खिलाफ अपना पहला आइपीएल मैच खेलकर अपने देश के लिये इतिहास रच दिया। इस मैच में हिस्सा लेने के साथ ही वो पहले नेपाली क्रिकेटर बन गये जिसने आइपीएल टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। संदीप से पहले कोई भी नेपाली क्रिकेटर आइपीएल का हिस्साए नहीं बन सका था। हालांकि संदीप ने इससे पहले बांग्लारदेश प्रीमियर लीग में अपना भाग्य् अजमाया था। मगर वहां उन्हें कोई खरीददार नहीं मिला था। इसके बाद इस गेंदबाज ने आइपीएल में रजिस्ट्रेगशन करवाया जिसके बाद उन्हें दिल्ली की टीम से आइपीएल में आगाज करने का मौका मिला।