जबलपुर । नागपुर के लकड़गंज क्षेत्र स्थित एक तीन सितारा होटल में रुके केमतानी ग्रुप के डायरेक्टर महेश केमतानी और उनका बेटा आशीष अपने ड्राइवर की शराबखोरी के कारण नागपुर में गिरफ्तार हो गए। नागपुर पुलिस को भी पहले यह नहीं पता था कि आरोपित कौन हैं। जब उनके बारे में जबलपुर एसपी से जानकारी मांगी, तो उन्होंने दोनों के फरार इनामी आरोपित होने की जानकारी दी। जिसके बाद ड्राइवर पर ड्रिंक एंड ड्राइव का मामला दर्ज कर पिता-पुत्र को तिलवारा पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया। पुलिस शनिवार रात तक आरोपितों को लेकर शहर आ गई।


होटल चैलेट्स में रुके थे आरोपित -


महेश केमतानी और उनका बेटा आशीष नागपुर के लकड़गंज स्थित होटल में रुके थे। शुक्रवार की रात तकरीबन 2 बजे उनकी लग्जरी कार में ड्राइवर शराब पीकर लकड़गंज क्षेत्र में घूम रहा था। इसी दौरान गश्त कर रहे लकड़गंज थाने के एसआई दिलीप असरुजी राठे ने उसे रोक लिया। जांच में ड्राइवर सीट बेल्ट नहीं पहने मिला। उसने शराब भी पी रखी थी।


पूछताछ में बताया कार मालिक का नाम -


आरोपित ड्राइवर से जब पूछताछ की गई, तो उसने बताया कि वह जबलपुर के बड़े व्यवसायी महेश केमतानी और उनके बेटे आशीष के साथ नागपुर आया है। इसके बाद महेश और आशीष केमतानी को होटल से हिरासत में ले लिया गया।


जबलपुर एसपी से किया संपर्क -


एसआई राठे ने जबलपुर एसपी कुमार सौरभ से संपर्क किया और मामले की जानकारी दी। एसपी को आरोपितों के नाम पता चले, तो उन्होंने तत्काल उन दोनों को हिरासत में लेने को कहा। साथ ही पिता-पुत्र के फरार होने और 10 हजार रुपए का इनामी होने की बात बताई।


यह है मामला -


बरगी हिल्स में निर्माणाधीन होटल ग्रैंड कौशल्या की तीसरी मंजिल का स्लैब 16 अप्रैल की दोपहर गिर गया था। हादसे में 2 मजदूरों की मौत हो गई थी। वहीं, 22 अन्य मजदूर घायल हो गए थे। इस मामले में तिलवारा पुलिस ने मामला कायम कर आरोपित ठेकेदार, सेंटिंग और एक अन्य आरोपित को गिरफ्तार किया था। जांच के दौरान पता चला कि यह निर्माणाधीन होटल महेश और उनके बेटे आशीष केमतानी के नाम पर है। जिसपर दोनों पर मामला दर्ज किया गया था। घटना के बाद से ही दोनों आरोपित पिता-पुत्र फरार थे।