बेंगलुरु  कर्नाटक चुनाव प्रचार के आखिरी दिन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने एक बार फिर से दावा किया कि इस बार कर्नाटक में बीजेपी सरकार बनाएगी. उन्होंने चुनाव प्रचार की समय सीमा खत्म होने से ठीक पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें उन्होंने पत्रकारों के कई सवालों के जवाब दिए.

इन्हीं सवालों में एक सवाल ऐसा आ गया, जिस पर शाह ने ऐसा जवाब दिया कि हॉल में ठहाके गूंजने लगे. राहुल गांधी से जुड़े इस सवाल का जवाब देते हुए शाह ने एक तीर से दो निशाने साधे.

ये था सवाल

दरअसल एक पत्रकार ने शाह से पूछा कि चुनाव तो हो रहा कर्नाटक में, लेकिन चर्चा 2019 की हो रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस चुनाव में खुद को पीएम उम्मीदवार बता दिया. राहुल गांधी का इस तरह खुद को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बताने को आप कैसे देखते हैं?

इस जवाब पर गूंजे ठहाके

इस सवाल पर शाह ने हंसते हुए जवाब दिया चलिए भई ठीक है... आप भी बन सकते हैं प्रधानमंत्री , इसमें क्या है. आपके भी पीएम बनने की संभावना उतनी ही है, जितनी राहुल गांधी के पीएम बनने की है. शाह के इस जवाब पर हॉल में ठहाके गूंजने लगे. इसके बाद शाह ने पत्रकार से पूछा भी कि समझ में आया आपको मेरा जवाब?

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बीजेपी के प्रचार के तरीके पर शाह ने बताया कि हम कर्नाटक की जनता के पास जाने में सफल रहे हैं. शाह ने बताया कि 56 हजार बूथों में बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने जनसंपर्क का काम किया है. प्रचार में अब तक 400 रैली-रोड शो किए गए हैं. 35 से ज्यादा प्रमुख नेताओं ने इस अभियान में अपना समय दिया है.

हारने जा रहे सिद्धारमैया

शाह ने कहा कि कर्नाटक में कानून-व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर हुई है. मारपीट, रेप, चेन स्नेचिंग की घटनाएं बेंगलुरु में 153 प्रतिशत तक बढ़ गईं हैं. शाह ने तंज कसते हुए कहा कि कर्नाटक का विकास बेंगलुरु की ट्रैफिक की तरह थमा हुआ है. यही कारण है कि सिद्धारमैया को बादामी जाना पड़ा है. वे यहां हारने जा रहे हैं.