फिल्म का नाम : मेरी निम्मो

निर्देशक : राहुल सांकल्या

स्टार कास्ट  : अंजलि पाटिल, मास्टर करण दावेम

रेटिंग : 3

अवधि: 1 घंटा 30 मिनट

तनु वेड्स मनु में आनंद एल राय के साथ काम कर चुके राहुल सांकल्या अपने निर्देशन में एक छोटे कस्बे की कहानी लेकर आए हैं. आइए समीक्षा में जानते हैं कैसी बनी है फिल्म और क्या है इसकी कहानी...

क्या है फिल्म की कहानी?

मेरी निम्मो कहानी मध्य प्रदेश के एक छोटे कस्बे की है. जहां निम्मो यानी अंजलि पाटिल अपने अपने परिवार के साथ रहती हैं. निम्मो का पूरा परिवार जिसमें उनकी मौसी एक अलग घर में रहती हैं. मौसी का घर पास ही है. निम्मो के घर में उनकी दो छोटी बहनें भी हैं. निम्मो की मौसी का एक बेटा जिसकी उम्र आठ साल है. उसे निम्मो यानी अपनी दीदी से प्यार हो जाता है. लेकिन ये बात वो कह नहीं पाता. इस बीच निम्मो की शादी तय हो जाती है. शादी तय होने के बावजूद निम्मो के सामने उस आठ साल के बच्चे को लगता है कि वो उससे ही प्यार करती है.

कहानी आगे बढ़ती है. शादी के सारे रीति रिवाज शुरू हो जाते हैं. निम्मो बच्चे का ख्याल रखती है, नहलाती-धुलाती है. छोटे बच्चे के किरदार को करण दावेम ने निभाया है. छोटे बच्चे का नादान प्यार कैसे धीरे-धीरे पनपता है, क्या निम्मो की शादी हो पाती है, निम्मो के घरवालों का क्या कहना है, कहानी में क्या ट्विस्ट टर्न्स आते हैं और अंतत: कहानी का हश्र क्या होता है ये सब दर्शाने की कोशिश फिल्म में की गई है.

आखिर क्यों देख सकते है फिल्म

जैसा की निम्मो की कहानी एक छोटे कस्बे की कहानी है. इस वजह से बहुत सारे लोग इस कहानी में खुद को जरूर रिलेट करेंगे. खासकर बचपन के नादान प्यार के मामले में जब बड़े उम्र की लड़के का लडकी से किसी को इश्क हो जाता है. उन्हें लगता है कि बस उनके लिए ही बने हैं और शादी हो जानी चाहिए. फिल्म में इसी नादानी को कहानी की शक्ल में दिखाने की बेहतरीन कोशिश हुई है. फिल्म के ट्रेलर में भी ये सब बातें दिखाने की कोशिश की गई थी पहले. जिस तरह से राहुल सांकल्या ने इसका निर्देशन किया है वो काफी उम्दा है. फिल्म की सिनेमैटोग्राफी भी उम्दा है और लोकेशन तो खैर बढ़िया है ही. कहानी में मौलिकता दिखाने की कोशिश की गई है. एक कस्बे में किस तरह बातें की जाती हैं. किसी कस्बे की मिट्टी की खुशबू इस कहानी में नजर आती है.

मध्य प्रदेश में एक ख़ास तरह का लहजा होता है. राहुल ने अपनी फिल्म में उसे दिखाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ा है. फिल्म में जिस तरह से कलाकारों ने उम्दा अभिनय किया है वह कमाल का है. खासकर अंजलि पाटिल का किरदार. इससे पहले उन्होंने न्यूटन में भी अपना दमदार अभिनय दिखाया था. उनके साथ करण दवे, अमर परिहार और दूसरे कलाकारों ने भी उम्दा काम किया है. फिल्म को आनंद एल राय ने प्रोड्यूस किया है. फिल्म का संगीत कृष्णा ने दिया है. एक कस्बे की कहानी के लिए इस फिल्म को जरूर देखनी चाहिए.

कमजोर कड़ियां

इस फिल्म में कोई भी मसाला नहीं है. मारपीट, एक्शन या तड़क-भड़क नहीं है. मसालेदार कॉमर्शियल फिल्मों की तलाश करने वालों को इससे निराशा हाथ लगेगी. फिल्म में बड़ी स्टार कास्ट भी नहीं है. अगर बड़े सितारों की फिल्म देखने के आदी हैं तो ये फिल्म आपके लिए नहीं है.

ये साधारण बजट में बनी फिल्म है. बॉक्स ऑफिस पर इसका हश्र देखना दिलचस्प होगा.