भोपाल। राजधानी में बिगड़ी कानून व्यवस्था का एक और बड़ा उदाहरण शुक्रवार शनिवार की दरमियानी रात सामने आया। शराब के नशे में धुत चार रेत कारोबारियों की कार द्वारा हाईसिक्योरिटी जोन श्यामला हिल्स में आयुष राज्यमंत्री जालम सिंह की कार को दो बार टक्कर मारने की कोशिश की गई।


इसके बाद ओवरटेक कर मंत्री की कार के सामने अपनी गाड़ी अड़ा दी। मंत्री के ड्रायवर से झूमाझटकी के बाद आरोपित युवक भाग खड़े हुए। पुलिस ने आरोपित युवकों को घेराबंदी कर पकड़ लिया। शिनाख्ती के लिए थाने पहुंचे मंत्री ने आरोपितों के खिलाफ शिकायत दर्ज नहीं करवाई।


पुलिस ने भी आबकारी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर न सिर्फ आरोपितों को छोड़ दिया बल्कि रात में ही उनकी गाड़ी भी सौंप दी। पुलिस के मुताबिक राज्यमंत्री पटेल देवी दर्शन करने नलखेड़ा गए थे।


रात को वह अपनी कार से भोपाल लौट रहे थे। करीब ढाई बजे वीआईपी रोड से बाणगंगा की तरफ पीछे से आ रही तेज रफ्तार गाड़ी में सवार युवकों ने उनकी कार को टक्कर मारने की कोशिश की।


बाणगंगा में मंत्री के बंगले के पास युवकों ने अपनी गाड़ी मंत्री की गाड़ी के आगे अड़ा दी। इस बीच जालमसिंह और उनके गनमैन के गाड़ी से उतरने और स्टाफ के लोगों के आने पर आरोपित गाड़ी सहित भाग निकले।


आरोपितों की पहचान कर ली गई है। ये लोग भोपाल में किसी तहसीलदार के यहां शादी में शामिल होकर होशंगाबाद लौट रहे थे। युवकों का संबंध होशंगाबाद के रेत कारोबार से जुड़ा हुआ है, जिनका सत्ताधारी दल में भी दखल है।


शाम होती तो कई राहगीर कुचल जाते


जालम सिंह मंत्री पटेल ने बताया कि आरोपित गाड़ी को सड़क पर लहराते हुए चला रहे थे। युवकों ने उनके स्टाफ से विवाद भी किया। यदि शाम का वक्त होता तो कई राहगीर कुचल जाते।