नई दिल्ली तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित एक बार फिर विवादों में घिरते नजर आ रहे हैं. 'डिग्री के लिए सेक्स' केस में आरोपी महिला के बयान पर घि‍रे बनवारी लाल पुरोहित ने मंगलवार को इस मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेस बुलाई थी. इस प्रेस कॉन्फेस में तब सब चौंक गए जब एक महिला पत्रकार के सवाल पर राज्यपाल ने जवाब देने के बजाय उसके गाल सहला दिए. राज्‍यपाल की इस हरकत से वो काफी असहज हो गईं. महिला पत्रकार के मुताबिक, इस घटना के बाद उसने कई बार अपना मुंह धोया, लेकिन वो इस बात को भुला नहीं पा रही थी.


राज्‍यपाल के ऐसा करने के बाद महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यम ने सोशल मीडिया के जरिए इस हरकत का विरोध किया. इसके साथ ही उन्‍होंने एक मैगजीन के लिए 630 शब्दों का आर्टिकल लिखा, जिसमें राज्‍यपाल के ऐसा करने को दुखद और गलत बताया है.  


महिला पत्रकार ने ट्वीट किया कि, 'मैंने अपना चेहरा कई बार धोया, लेकिन मैं इस भाव से छुटकारा नहीं पा रही. राज्‍यपाल बनवारी लाल पुरोहित से मैं काफी गुस्‍से में हूं. ये हो सकता है आपके लिए प्रोत्‍साहन का तरीका और दादाजी जैसा रवैया हो, लेकिन मेरे लिए आप गलत हैं.'


महिला पत्रकार ने आगे लिखा, ये अव्‍यवहारिक रवैया है. किसी भी अंजान को उसकी सहमति के बिना छूना, खास तौर से महिला को, ये गलत है.


द्रमुक ने बताया अशोभनीय


वहीं, तमिलनाडु में विपक्षी दल द्रमुक ने घटना को संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति का 'अशोभनीय' कृत्य करार दिया है. द्रमुक की राज्यसभा सदस्य कनिमोझी ने ट्वीट किया कि, 'अगर संदेह नहीं भी किया जाए तब भी संवैधानिक पद पर बैठे एक व्यक्ति को इसकी मर्यादा समझनी चाहिए. एक महिला पत्रकार को छूकर गरिमा का परिचय नहीं दिया है.'


क्‍या है मामला?


बता दें, ये मामला तमिलनाडु के अरुप्पूकोट्टई के देवांग आर्ट कॉलेज का है. यहां की महिला लेक्चरर पर आरोप है कि उन्होंने छात्रों को ज्यादा नंबर और पैसे के लिए कुछ अधिकारियों के साथ एडजस्ट करने की सलाह दी थी. हालांकि वह इन आरोपों से इनकार कर रही हैं. साथ ही एक ऑडियो भी सामने आया है जिसमें ये महिला लेक्‍चरर राज्‍यपाल से अपने संबंधों की बात कह रही है. राज्‍यपाल ने इसी बात पर सफाई देने के लिए प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी.