मुंबई. करीब 13 हजार करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले में ऑडिटर्स की भूमिका की जांच की जा रही है। इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स (आईसीएआई) ने मुंबई स्थित ब्रेडी हाउस के 8 ऑडिटर्स को नोटिस भेजकर अनुशासन समिति के सामने पेश होने को कहा है। आईसीएआई ने 2011-12 से 2016-17 के दौरान ब्रेडी हाउस ब्रांच के ऑडिटर्स की लिस्ट तैयार की है। प्राथमिक जांच के तहत संस्थान इस मामले में ऑडिटर्स की भूमिका पता लगाएगा।

ये नहीं कहा जा सकता कि ऑडिटर्स दोषी हैं- आईसीएआई

- आईसीएआई के मेंबर एसबी जवारे ने कहा, "चार्टर्ड एकाउंटेंट एक्ट 1949 के तहत ये नोटिस दिए गए हैं। ऑडिटर्स के जवाब के बाद ही घोटाले में उनकी भूमिका के बारे में स्थिति साफ हो पाएगी। संस्थान का कहना है कि फिलहाल यह नहीं कहा जा सकता कि ऑडिटर्स दोषी हैं।"

- पीएनबी घोटाला सामने आने के बाद आईसीएआई ने 10 सदस्यीय उच्च स्तरीय जांच दल गठित किया था। जांच पूरी होने के बाद यह कमेटी बैंकिंग सिस्टम की खामियां दूर करने के लिए सुझाव भी देगी।

अभी तक नहीं दी बैंक ने जानकारी

- आईसीएआई के मेंबर एसबी जवारे का कहना है कि पीएनबी की ओर से जांच में सहयोग से इनकार करने पर कमेटी ने सरकार से दखल की मांग की थी। इसके बाद कॉर्पोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री और फाइनेंस मिनिस्ट्री की ओर से पीएनबी को चिट्ठी भेजी गई है। इसके तहत जांच समूह को जानकारियां देने के लिए कहा गया है।

- जवारे के मुताबिक, बैंक से मांगी गई जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है। जवारे खुद भी इस कमेटी के संयोजक हैं।

जांच में दोषपूर्ण ऑडिट की बात सामने आई

- अभी तक सामने आई जानकारी के मुताबिक, आईसीएआई जांच कमेटी ने बैंक की तरफ से हुई खामियों का पता लगाया है। इनमें कॉर्पोरेट गवर्नेंस में चूक, दोषपूर्ण ऑडिट और सावधानियां नहीं बरतने की बातें सामने आई हैं। पीएनबी घोटाले की जांच में सीबीआई, एसएफआईओ और ईडी जैसी महत्वपूर्ण एजेंसियां जुटी हुई हैं।

 

 

 

कब और कैसे हुआ फ्रॉड?
- फ्रॉड की शुरुआत पीएनबी की मुंबई स्थित ब्रेडी हाउस ब्रांच में 2011 से हुई। फ्रॉड फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (एलओयू) के जरिए किया गया। 
- फर्जी एलओयू तैयार कर 2011 से 2018 तक हजारों करोड़ की रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई।

खुलासा कब हुआ?

- फ्रॉड का खुलासा फरवरी के पहले हफ्ते में हुआ। पंजाब नेशनल बैंक ने सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले की जानकारी दी। 

- बाद में पीएनबी ने सीबीआई को बैंक में 1300 करोड़ के नए फ्रॉड की जानकारी दी। पीएनबी फ्रॉड अब करीब 13 हजार करोड़ तक पहुंच चुका है।