नई दिल्ली अब तक सत्ता का विरोध करने वाले लोगों का अहम हथियार अनशन होता था, लेकिन आज सरकार ही उपवास पर है. संसद का बजट सत्र सत्र बाधित होने पर विपक्ष से नाराज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के तमाम मंत्री और सांसद देश के अलग-अलग शहरों में उपवास पर बैठेंगे.


प्रधानमंत्री मोदी उपवास के दौरान चेन्नई में डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन करेंगे तो अमित शाह कर्नाटक के हुबली में उपवास पर रहेंगे. इससे पहले पीएम मोदी ने अनशन के लिए सांसदों को ऑडियो संदेश दिया. अभी तक आपने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, अन्ना हजारे, अरविंद केजरीवाल और हाल ही में राहुल गांधी को अनशन पर बैठे हुए देखा होगा. लेकिन शायद पहली बार होगा कि पूरी सरकार ही अनशन पर है.


बीजेपी में कौन-कौन कहां उपवास करेगा, जरा इसकी फेहरिस्त भी देख लीजिए -

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी - डिफेंस एक्सपो में हिस्सा लेंगे.


बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह - कर्नाटक के हुबली में.


गृह मंत्री राजनाथ सिंह - नई दिल्ली 


विदेश मंत्री सुषमा स्वराज - नई दिल्ली


पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान - नई दिल्ली


रेल मंत्री पीयूष गोयल - नई दिल्ली


विनय सह्रबुद्धे - नई दिल्ली


केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु, मेनका गांधी और सांसद मीनाक्षी लेखी - दिल्ली के हनुमान मंदिर.


कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद - पटना


गिरिराज सिंह - बिहार के नवादा


राधा मोहन सिंह - मोतिहारी


मुख्तार अब्बास नकवी - रांची


रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण - चेन्नई


मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर - बेंगलुरु


महेश शर्मा - नोएडा


जेपी नड्डा - वाराणसी


थावरचंद गहलौत - इंदौर


वीरेंद्र सिंह - हरियाणा के जींद,


केजे अल्फोंस - केरल


एमजे अकबर - विदिशा


नारायण राणे - महाराष्ट्र


ओपी माथुर - ओडिशा


भूपेंद्र यादव - अजमेर


बीजेपी अपने उपवास को लोकतंत्र बचाने की कवायद बता रही है, लेकिन उसका असली मकसद पूरे देश में उपवास के बहाने अपनी ताकत दिखाना है.


नेताओं को दी गई सलाह


संसद का बजट सत्र बर्बाद होने के खिलाफ बीजेपी सांसदों के एक दिन के उपवास के लिए पार्टी ने कड़े नियम तय किए हैं. बीजेपी का आरोप है कि विपक्ष के चलते संसद का बजट सत्र पूरी बर्बाद हो गया. बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने अपने पार्टी नेताओं को सार्वजनिक जगहों पर खाने से बचने या खाते हुए कैमरे की जद में आने से बचने की सलाह दी है.


कांग्रेस ने भी रखा था उपवास

हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस पार्टी ने देशभर में उपवास रखा था. कांग्रेस का ये उपवास मोदी सरकार के राज में दलितों के खिलाफ हो रहे अत्याचार को लेकर था. लेकिन इस उपवास में भी काफी विवाद हुआ. पहले सिख दंगों के आरोपी नेता जगदीश टाइटलर और सज्जन कुमार दिल्ली में उपवास वाले पंडाल पहुंचे तो बाद में दिल्ली कांग्रेस के नेताओं की छोले-भटूरे खाती हुई तस्वीर ने बवाल कर दिया.