डायरेक्टर: राजकुमार गुप्ता


स्टार कास्ट: अजय देवगन, इलियाना डिक्रूज, सौरभ शुक्ला, अमित सयाल , पुष्पा जोशी


अवधि: 2 घंटा 08 मिनट


सर्टिफिकेट: U/A


रेटिंग: 4 स्टार


'आमिर', 'नो वन किल्ड जेसिका' जैसी फिल्मों को डायरेक्ट करने वाले डायरेक्टर राजकुमार गुप्ता ने इस बार 80 के दशक में हुई भारत की सबसे बड़ी इनकम टैक्स रेड पर फिल्म 'रेड' बनाई है, जिसमें अजय देवगन और इलियाना डिक्रूज लीड रोल में हैं. जानते हैं कैसी बनी है ये फिल्म और क्या है इसकी कमजोर कड़ियां...


कहानी:


यह कहानी 1981 के लखनऊ, उत्तर प्रदेश की है. यहां के इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में ऑफिसर अमय पटनायक (अजय देवगन) का ट्रांसफर हो जाता है. वो अपनी पत्नी मालिनी पटनायक (इलियाना डिक्रूज) के साथ यहां आते हैं. डिपार्टमेंट में उनके अंदर लल्लन (अमित सयाल) और बाकी लोग काम करते हैं . जब अमय को पता चलता है कि रामेश्वर सिंह उर्फ ताऊजी (सौरभ शुक्ला) ने अपने घर बहुत पैसा छुपाया है तो वो अपनी टीम के साथ उनके घर रेड मारने जाते हैं. इसके बाद फिल्म में बहुत ट्विस्ट एंड टर्न्स आते हैं और एकके बाद एक कई घटनाओ का पर्दाफ़ाश होता है.

क्यों देखें फिल्म:


फिल्म की कहानी जबरदस्त है और राजकुमार गुप्ता ने रितेश शाह के साथ मिलकर जो स्क्रीनप्ले लिखा है वो बहुत ही अच्छा है.


फिल्म के डायलॉग्स के लिए रितेश शाह की जितनी भी तारीफ की जाए कम है.


फिल्म में कैमरा वर्क कमाल का है, राजकुमार का डायरेक्शन बढ़िया है. साथ ही एडिटिंग बहुत ही शार्प है, जिसके लिए एडिटर बुधादित्य बैनर्जी की तारीफ जरूर होनी चाहिए.


अजय देवगन की एक्टिंग दमदार है. दर्शक आम आदमी के तौर पर उनसे कनेक्ट कर पाएंगे. वहीं ईमानदार ऑफिसर के अपोजिट बाहुबली और ताकतवर नेता के रूप में सौरभ शुक्ला ने एक बार फिर से बता दिया है कि आखिर उन्हें उम्दा अभिनेता क्यों कहा जाता है. अजय के सहायक लल्लन सुधीर (अमित सयाल) का किरदार फिल्म के दौरान हंसाते नजर आएगा. सानंद वर्मा, गायत्री अय्यर, के साथ साथ दादी जी के रूप में 85 साल की पुष्पा सिंह जी की एक्टिंग भी जबरदस्त है.


फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर अच्छा है.

कमजोर कड़ियां:


संगीत और बेहतर हो सकता था. गाने और भी अच्छे हो सकते थे .


बॉक्स ऑफिस :


प्रमोशन के साथ फिल्म का बजट लगभग 35 करोड़ बताया जा रहा है. खबरों के मुताबिक फिल्म ने सैटेलाइट, डिजिटल और ओवरसीज राइट्स के साथ अच्छी कमाई कर ली है.