वीवीएस लक्ष्मण के नाम का जिक्र जब भी आता है, जहन में सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में खेली गई उनकी 281 रनों की पारी याद आ जाती है। आज से 17 साल पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया के लगातार 16 टेस्ट जीत के अभियान को तोड़ा था। कोलकाता में लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ ने वो करिश्मा कर दिखाया था, जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी।

ईडन गार्डन्स स्टेडियम में खेले गए इस मैच में टीम इंडिया को फॉलोऑन झेलना पड़ा था और ऐसा लग रहा था कि ऑस्ट्रेलिया बड़ी ही आसानी से ये लगातार 17वां टेस्ट जीत लेगा। गेंदबाजी में हरभजन सिंह ने कमाल दिखाया तो बल्लेबाजी में लक्ष्मण और द्रविड़ ने मिलकर ऑस्ट्रेलिया बॉलिंग अटैक की धज्जियां उड़ा दी थीं।

दोनों के बीच 376 रनों की पार्टनरशिप ने भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाई थी। बल्लेबाजी में सचिन तेंदुलकर ने भी अच्छा प्रदर्शन किया था।

द्रविड़ के साथ अपनी यादगार पारी पर लक्ष्मण ने कही ये बात

लक्ष्मण को आज भी वो पारी याद है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'कुछ दिन हमें जिंदगी में ऐसा मौका देते हैं, जिससे हम खुद को बेहतर जान सकें और ये महसूस कर सकें कि हमारी क्षमता क्या है। 17 साल पहले हमें भी ऐसा ही लम्हा जीने का मौका मिला था। इस दिन के बाद मेरा ये विश्वास और बढ़ा कि हमें कभी भी हार नहीं माननी चाहिए। इसे साकार बनाने में सिर्फ मैं और राहुल ही नहीं थे, बल्कि भज्जी, सचिन और पूरी टीम ने इसे सफल बनाया था।'

कोलकाता में ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 445 रन बनाए, जवाब में भारतीय टीम 171 रनों पर ही सिमट गई। ऑस्ट्रेलिया ने भारत को फॉलोऑन के लिए मजबूर किया। टीम इंडिया जब दोबारा बल्लेबाजी के लिए आई, तो 115 रनों तक तीन विकेट गंवाकर मुश्किल में नजर आ रही थी।


लक्ष्मण ने पहले सौरव गांगुली के साथ 117 रनों की साझेदारी निभाई और फिर द्रविड़ के साथ 376 रनों की। भारत ने सात विकेट पर 657 रनों पर पारी घोषित कर ऑस्ट्रेलिया को 383 रनों का लक्ष्य दिया। भज्जी की शानदार गेंदबाजी के सामने ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 212 रनों पर ही सिमट गई और भारत ने टेस्ट 171 रनों से जीत लिया।