भारतीय स्टेट बैंक ने मौजूदा वित्त वर्ष के 10 महीनों में 41.16 लाख से भी ज्यादा बैंक खाते बंद कर दिए हैं. सूचना के अध‍िकार के तहत मांगी गई जानकारी से यह आंकड़ा सामने आया है.

मध्य प्रदेश के समाजसेवी चंद्रशेखर गौड़ ने आरटीआई याचिका दायर की थी. इसमें उन्होंने बैंक खातों को लेकर जानकारी मांगी थी. इसके जवाब में उन्हें 28 फरवरी को मिले पत्र में इसकी जानकारी दी गई.

भारतीय स्टेट बैंक ने जिस वजह से इन बैंक खातों को बंद किया है, उसे आपके लिए भी जानना जरूरी है. क्योंकि यह शर्त आप पर भी लागू हो सकती है. ऐसे में आपको इस शर्त को पूरा करना जरूरी होगा.

रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय स्टेट बैंक ने 41.16 लाख बैंक खातों को इसलिए बंद कर दिया, क्योंकि इन खातों में मिनिमम बैलेंस मेंटेंन नहीं किया जा रहा था.

बता दें कि यह आंकड़ा ऐसे समय में सामने आया है, जब भारतीय स्टेट बैंक ने मिनिमम बैलेंस बनाए न रखने पर लगने वाले चार्ज को 75 फीसदी तक कम कर दिया है.

मंगलवार को भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों को एक बड़ा तोहफा दिया है. एसबीआई ने उन लोगों को बड़ी राहत दी है, जो अपने बचत खाते में मिनिमम बैलेंस बनाए रखने में सक्षम नहीं होते.

एसबीआई ने खाते में मिनिमम बैलेंस न रखने पर लगने वाले चार्ज को 75 फीसदी तक घटा दिया है. इस कटौती के बाद आपको पहले के मुकाबले काफी कम चार्ज देना होगा

हालांकि यह कटौती 1 अप्रैल से लागू होगी. मौजूदा समय में आपको मेट्रो शहरों में 3 हजार रुपये का मिनिमम बैलेंस अपने खाते में बनाए रखना पड़ता है.

अर्द्ध शहरी शाखाओं की बात करें, तो यहां आपको 2 हजार रुपये की रकम बनाए रखनी पड़ती है. वहीं, ग्रामीण भागों में यह सीमा 1 हजार रुपये है.