मध्यप्रदेश के इंदौर में मंगलवार दोपहर में 22 वर्षीय छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. द्वारकापुरी के ग्रेटर वैशाली नगर में रहने वाली मृतका भानुप्रिया बीई द्वितीय वर्ष की छात्रा थी. घरवालों के सामने उसने बेड रूम का दरवाजा बंद कर फांसी लगी ली. जानकारी के बाद द्वारकापुरी पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवाया. परिजनों ने बताया कि भानुप्रिया परीक्षा में एक विषय में फेल होने के बाद से ही तनाव में थी और एक माह से कॉलेज नहीं जा रही थी. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी.


भानुप्रिया ने अपने परिजनों के सामने ही कमरा बंद कर आत्महत्या कर ली. बेटी को बचाने के प्रयास में मृतका के पिता रतन सिंह भी घायल हो गए. जानकारी के अनुसार देर से उठने की बात पर बहन से भानुप्रिया की कहासुनी हुई और गुस्से में छात्रा ने कमरे का गेट बंद कर फांसी लगा ली.


घटना के वक्त बहन और पिता ने उसे रोकना चाहा लेकिन गेट मजबूत होने से वे उसे तोड़ नहीं पाए. खिड़की तोड़कर जब तक वे भीतर पहुंचे बेटी फंदे पर झूल चुकी थी. परिजन फंदे से उतारकर भानुप्रिया को अस्पताल लेकर पहुंचे जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने बताया कि परिजनों से बातचीत में अलग अलग बातें सामने आ रही है. पुलिस आत्महत्या के कारणों की जांच कर रही है.