कांग्रेस ने मध्यप्रदेश से राज्यसभा की एक सीट के लिए पूर्व मंत्री राजमणि पटेल को प्रत्याशी घोषित किया है. पटेल सोमवार को भोपाल में नामांकन दाखिल करेंगे. कांग्रेस की ओर से राजमणि पटेल के नाम की घोषणा ने कई लोगों को चौंकाया भी है. लेकिन राजभर पटेल के नाम की घोषणा से विंध्य के लोगों में खुशी की लहर है. राजभर पटेल रीवा जिले  के सिरमौर चार बार विधायक और तीन बार मंत्री रह चुके हैं. मध्यप्रदेश में जमीन जुड़े नेता के तौर पर इनकी पहचान है. इन्हें पार्टी के प्रति समर्पित नेता माना जाता है.


पटेल 1972 में पहली बार विधायक बने थे. इसके बाद पहली बार 1986 मे राजस्व मंत्री बने थे. हालांकि, 2003 में कांग्रेस की हार के बाद से पटेल सत्ता का वनवास ही झेल रहे थे. लेकिन, अब पार्टी ने एक बार फिर उन पर भरोसा किया है और राज्यसभा भेजने का फैसला लिया है. राज्यसभा की इस सीट पर कांग्रेस की जीत तय मानी जा रही है. राजमणि पटेल रीवा से राज्यसभा जाने वाले पांचवें नेता होंगे.


पटेल के नाम की घोषणा होते ही लोग उन्हें बधाईयां देने के लिए उनके घर पहुंचने लगे. बेटे सज्जन पटेल ने बताया कि मेरे पिता ने सदैव सिद्धांतों की राजनीति की है. पूरे राजनीतिक जीवन में वे कभी विवाद में नहीं आए.