बीजिंग: आज के तकनिकी युग में हम जिस तरह से विज्ञान का अंधाधुंध इस्तेमाल किये जा रहे हैं, उससे हम सुविधाएं तो जुटा रहे हैं, लेकिन उससे हो सकने वाले दुष्परिणामों को नज़रअंदाज़ कर रहे हैं. जिससे वो तकनीक ही कई बार हमारे लिए जानलेवा हो जाती है. ऐसा ही एक हादसा होने की आशंका अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने जताई है. वैज्ञानिकों का कहना है कि, अंतरिक्ष में मौजूद चीन का स्पेस सेण्टर (अंतरिक्ष केंद्र) तीव्रता से धरती की ओर आ रहा है. 


अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने बताया है कि, यह अंतरिक्ष केंद्र 27 मार्च से अप्रैल के बीच कभी भी धरती पर गिर सकता है, जिससे भारी तबाही होने की आशंका भी वैज्ञानिकों ने जताई है. आपको बता दें कि, 2011 में लांच किया गए चीन के पहले प्रोटोटाइप अंतरिक्ष केंद्र, तियानगोंग-1 पर अंतरिक्ष वैज्ञानिक पिछले कुछ समय से नज़र रख रहे थे, जिसके बाद उन्होंने बताया कि, तियानगोंग-1 नियंत्रण से बाहर हो चूका है और करीब 28 हजार किमी/घंटे की रफ्तार से धरती की तरफ गिर रहा है. 


बताया जा रहा है कि, इसमें भारी मात्रा में विध्वंसक रसायन भरे हैं, इसीलिए जब यह धरती से टकराएगा तो भयंकर विनाश हो सकता है, इसका मलबा हज़ारों मील तक फैलने की आशंका भी जताई जा रही है. 2016 में इस अंतरिक्ष केंद्र ने नियंत्रण खोया था, जिसके बाद से इसके धरती पर गिरने की बात ने जोर पकड़ लिया था. हालांकि वैज्ञानिकों द्वारा अभी यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि, यह किस स्थान पर गिरेगा, लेकिन अगर यह आबादी वाले स्थान पर गिरा तो नतीजे बेहद खौफनाक हो सकते हैं.