वाशिंगटन अमेरिका ने पाकिस्तान के तीन मोस्ट वांटेड आतंकियों के नाम पर 110 लाख डॉलर (71.6 करोड़ रुपये) के इनाम की घोषणा की है. अमेरिका के एक राज्य विभाग ने तहरीक-ए-तालिबान (टीटीपी) पाकिस्तान प्रमुख मौलाना फजलुल्लाह की पहचान या उसका पता बताने वाले को 50 लाख डॉलर (32.5 करोड़ रुपये) के इनाम की घोषणा की है.


वहीं, अमेरिका ने जमात-उल-अहरार के आतंकी अब्दुल वली और लश्कर-ए-इस्लाम के आतंकी मंगल बाग की जानकारी देने वाले के लिए 30 लाख डॉलर (करीब 20 करोड़) के इनाम की घोषणा की है. पाकिस्तानी आतंकियों को लेकर इनामों की घोषणा ऐसे समय में हुई है जब पाकिस्तान की विदेश सचिव तहमीना जंजुआ अमेरिका दौरे पर हैं.


आतंकी फजलुल्लाह पाकिस्तान के प्रतिबंधित आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का मुखिया है. टीटीपी को सितंबर 2010 में वैश्विक आतंकवादी संगठन घोषित कर उस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. फजलुल्लाह कई आतंकी हमलों को अंजाम दे चुका है. उसी ने मलाला यूसुफजई पर हमला करवाया था.


नवम्बर 2013 में फजलुल्लाह को तहरीक-ए-तालिबान का नेता चुना गया था. तहरीक-ए-तालिबान वही संगठन है जिसने पाकिस्तान के पेशावर में एक आर्मी पब्लिक स्कूल पर हुए हमले की जिम्मेदारी ली थी. इस हमले में 134 बच्चे समेत करीब 151 लोगों की मौत हो गई थी.

अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए जमात-उल-अहरार के आतंकी अब्दुल वली अफगानिस्तान के नंगरहार और कुनार प्रांत में रहता है और वहीं से आतंकी गतिविधयां चलाता है. वली कई आतंकी हमलों में शामिल रहा है और पाकिस्तान में हुए कई आतंकी हमलों की जिम्मेदारी भी ली है. जानकारी के मुताबिक, आतंकी मंगल बाग तस्करी, अपहरण, पाकिस्तान और अफगानिस्तान सीमा पार लगने वाले कर से पैसा कमाता है.


खबरों के मुताबिक, शुक्रवार को व्हाइट हाउस में पाकिस्तान की विदेश सचिव तहमीना जंजुआ और ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों के बीच हुई मुलाकात के बाद इनाम की घोषणा की गई.