अगरतला, त्रिपुरा त्रिपुरा में भारतीय जनता पार्टी की नई सरकार ने शुक्रवार को शपथ ली. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बिप्लब देब ने राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, उनके साथ जिष्णु देव वर्मा ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली. शपथ ग्रहण के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रैली को संबोधित किया.


प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत स्थानीय भाषा में की. पीएम ने कहा कि आज त्रिपुरा में फिर से एक बार दीवाली आई है. पीएम बोले कि देश में कुछ चुनाव ऐसे होते हैं जो इतिहास में दर्ज हो जाते हैं, त्रिपुरा का चुनाव उन्हीं में से एक है जिसकी चर्चा भविष्य में भी होती रहेगी. त्रिपुरा के नागरिकों ने ये इतिहास रचा है.


प्रधानमंत्री बोले कि त्रिपुरा में शांतिपूर्ण तरीके से चुनाव हुआ है. त्रिपुरा के लोगों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि जिन्होंने हमें वोट दिए हैं और जिन्होंने वोट नहीं दिए हैं ये सरकार सभी के लिए है. त्रिपुरा का हर नागरिक हमारा है, उसका विकास करना हमारा दायित्व है. उन्होंने कहा कि मैं पूर्व में आए किसी भी पीएम से ज्यादा नॉर्थ ईस्ट में आया हूं. भारत के हर नागरिक को लगना चाहिए कि वह भारत माता की जय बोलता है तो उसे गर्व होना चाहिए.


उन्होंने कहा कि हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास के मंत्र से आगे बढ़ेगी.उन्होंने कहा कि सरकार किसी भी दल की हो, लेकिन जनता किसी दल की नहीं होती है जनता देश की होती है. त्रिपुरा में सरकार जितने तेजी से चलेगी, उतनी ही तेजी से भारत सरकार मदद करेगी. 


अमित शाह ने भी किया संबोधित


रैली में अमित शाह ने कहा कि त्रिपुरा में पीएम मोदी के नेतृत्व में जो विश्वास रखा है. मैं भरोसा देता हूं कि हमारी टीम त्रिपुरा को मॉडल राज्य बनाएगी. त्रिपुरा की जनता इसी क्षण का इंतजार कर रही थी. त्रिपुरा शांति और विकास के मार्ग पर आगे बढ़ेगा. पूर्वोत्तर में आठ में से सात राज्यों में अब बीजेपी की सरकार है. केंद्र सरकार ने पूर्वोत्तर के विकास का ध्यान दिया, पीएम खुद हर राज्य में गए हैं. मोरारजी देसाई के बाद पीएम मोदी ने ही नॉर्थ ईस्ट में आकर बैठक की. अमित शाह ने कहा कि 2014 के बाद नॉर्थ ईस्ट में शांति फैली है.


बिप्लब देब ने सीएम पद की शपथ लेने के बाद कहा कि राज्य में बीजेपी की जीत के पीछे सुनील देवधर, हेमंत शर्मा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह की मेहनत है. उन्होंने कहा कि त्रिपुरा में बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं के मार्गदर्शन में सरकार चलाएंगे.