सऊदी अरब की सरकार ने नई दिल्ली से तेल अवीव के नए मार्ग पर अपने हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल की अनुमति दे दी है। इस नए मार्ग से दोनों शहरों के बीच करीब ढाई घंटे की यात्रा का समय कम हो जाएगा। इस्राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इस बात की पुष्टि की है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ वाशिंगटन में हुई मुलाकात के बाद इस्राइली पत्रकारों से बात करते हुए नेतन्याहू ने यह बात कही। 

सऊदी अरब हवाई रूट से विमानों के आवागमन पर ढाई घंटे बचेंगे


नई दिल्ली और तेल अवीव के बीच एयर इंडिया की सीधी उड़ान बहुत जल्द शुरू होने जा रही है। अभी तक सऊदी अरब ने किसी भी देश से विमानों को उड़ान भरने और इस्राइल जाने की अनुमति नहीं दी है। यदि सऊदी अरब इस्राइल के साथ 70 साल पुराना हवाई मार्ग प्रतिबंध हटाता है तो यह दोनों देशों की बीच रिश्तों की एक नई शुरुआत भी होगी। 


नेतन्याहू ने कहा कि इस अनुमति से एयर इंडिया की नई दिल्ली से तेल अवीव तक की हवाई यात्रा का समय 7-8 घंटे से घटकर करीब साढ़े पांच घंटे तक का ही रह जाएगा। इस बीच एयर इंडिया के प्रवक्ता ने इस्राइल के पीएम नेतन्याहू के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अभी भारतीय नियामक से ऐसी कोई सूचना प्राप्त होना बाकी है। 


एयर इंडिया ने नागरिक विमानन महानिदेशालय से नई दिल्ली-तेल अवीव तक उड़ान के लिए तीन बार अनुमति मांगी है। हालांकि इस्राइल और सऊदी अरब के बीच फिलहाल कोई राजनयिक रिश्ते नहीं हैं लेकिन दोनों ही देश अमेरिका से करीबी संबंध रखते हैं। इसके अलावा दोनों ही ईरान को अपना प्रतिद्वंद्वी मानते हैं।


फिलहाल इथियोपिया होते हुए लंबे रास्ते का होता है इस्तेमाल


फिलहाल इस्राइल एयरलाइंस की 4 साप्ताहिक उड़ानें मुंबई से तेल अवीव के लिए हैं। ये उड़ानें 7-8 घंटे में तेल अवीव पहुंचाती हैं क्योंकि ये देश के पूर्वी छोर के लंबे रास्ते से होते हुए इथियोपिया जाती हैं और फिर इस्राइल पहुंचती हैं। जबकि सऊदी अरब होते हुए भारत से इस्राइल के लिए सीधा रास्ता है, लेकिन अब तक अनुमति नहीं होने के कारण उड़ानों को लंबे रूट से आना-जाना पड़ता था।