इपोह (मलेशिया), पीटीआई। विश्व कप में कमोबेश आसान ड्रॉ मिलने के बावजूद भारतीय हॉकी टीम के कोच शोर्ड मारिन ने कहा कि विरोधी टीमों को लेकर आत्ममुग्ध होने की जरूरत नहीं है और हर मैच जीतना महत्वपूर्ण है।


भारत को नवंबर-दिसंबर में भुवनेश्वर में होने वाले विश्व कप में ओलंपिक रजत पदक विजेता बेल्जियम, कनाडा और दक्षिण अफ्रीका के साथ पूल-सी में रखा गया है। मारिन ने कहा, 'यह विश्व कप है और हर टीम जीत के इरादे से खेलेगी। हम कभी नहीं कह सकते कि पूल आसान है या कठिन। हमें हर विरोधी का सम्मान करना होगा। विश्व कप में रैंकिंग मायने नहीं रखती। हमें अपने प्रदर्शन पर फोकस करना होगा और हर मैच जीतना होगा।


भारत को पहला मैच 28 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से खेलना है, जबकि दो दिसंबर को उसका दूसरा मैच बेल्जियम से होगा। इसके बाद उसे कनाडा से आठ दिसंबर को खेलना है। मारिन ने कहा, 'बेल्जियम दुनिया की सबसे दमदार टीमों में से एक है, लेकिन हमने उसे विश्व लीग फाइनल में हराया है। इसके बावजूद हम किसी टीम को लेकर आत्ममुग्ध नहीं हो सकते।

भारतीय टीम यहां सुल्तान अजलन शाह कप खेलने आई है जिसमें उसका पहला मैच शनिवार को अर्जेंटीना से होगा। मारिन ने कहा, 'इस साल काफी टूर्नामेंट हैं जिनमें सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा। हम सिर्फ एक टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर फोकस नहीं कर रहे। एशियन गेम्स, चैंपियंस ट्रॉफी और उसके बाद विश्व कप है।Ó उन्होंने कहा कि टीम के वैज्ञानिक सलाहकार रोबिन अर्केल ने ऐसा प्लान तैयार किया है जिससे हर टूर्नामेंट से पहले खिलाडिय़ों की फिटनेस का स्तर सर्वश्रेष्ठ रहे।