जैसे भारत में वास्तु शास्त्र व इसकी दिशाओं का महत्व है। ठीक वैसे ही फैंगशुई को चीन का वास्तुशास्त्र माना जाता है। इसे चीन के साथ-साथ भारत में भी बहुत महत्व दिया जाता है। इसके अनुसार यदि कुछ चीजों को घर में सही जगह रखा जाए तो घर में धन-धान्य में वृद्ध होती है व कई तरह की अन्य परेशानियों से मुक्ति मिलती है। तो आईए आज इससे संबंधित एक बात में जानें-

अक्सर हम देखते है कि कई लोगों ने अपने घरों में धातु का कछुआ रखा होता है। इनमें अलग-अलग आकार और मेटल के कछुए, कभी कैंडल स्टैंड की तरह तो कभी स्टडी टेबल आदि पर रखे होते हैं। लेकिन एेसा करने की वजह के बारे में शायद ही लोगों को पता होगा कि क्यों घरों की इन अलग-अलग दिशाओं में कछुए को रखा जाता है। तो आज आपको बताएं फैंगशुई के अनुसार कछुए को रखना गुड लक माना जाता है। इसलिए ही लोग अपने घरों में पॉजिटिव एनर्जी को बरकरार रखने के लिए इसे सजाते हैं। अगर आप भी इसे अपने घर में रखने के बारे में सोच रहे हैं तो इन टिप्स को जरूर करें।

मेटल से बने कछुए को उत्तरी या फिर उत्तरी-पश्चिमी दिशा में रखना कारोबार के लिए माना जाता है। 

क्रिस्टल से बने हुए कछुए को हमेशा दक्षिण-पश्चिम या दक्षिण-पूर्वी दिशा में रखें। इससे घर में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है।

मिट्टी से बने कछुए को उत्तर-पूर्व या फिर दक्षिण-पश्चिम में रखें। इसे इस जगह रखने से घर में खुशहाली व पैसे का आगमन होता है।

लकड़ी के बने कछुए को पूर्वी दिशा में या फिर दक्षिण-पूर्व में रखना बेहतर माना जाता है। 

यदि 1 से ज्यादा कछुए या फिर कछुए की फैमिली रखनी हो तो उनका चेहरा हमेशा पूर्वी दिशा में रखें। इससे घर में रहने वाले सदस्यों के बीत में आपसी प्यार बढ़ता है।

फैंगशुई के मुताबिक घर में शांति, एकता, स्थिरता, लंबा जीवन और आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने के लिए कछुए को इस तरह घर में सजाएं कि उसका पैर पानी में हो।